सीबीएसई ने जारी की 12वीं कक्षा के लिए रिजल्ट तैयार करने की गाइडलाइन, जानें किस तरह तरह बनेगा रिजल्ट

(Photo : IANS)

पिछले तीन सालों के रिजल्ट के आधार पर बनेगा 12वीं का परिणाम, असंतुष्ट छात्र फिर से दे सकेगे परीक्षा

कोरोना महामारी के कारण सीबीएसई द्वारा 12वीं बोर्ड की परीक्षाओं को रद्द करने के बाद अब बच्चों के रिजल्ट किस तरह तैयार किए जाये, इसकी गाइडलाइन जारी की गई है। जिसके तहत सीबीएसई ने बताया की 12वीं कक्षा का रिजल्ट 10वीं, 11वीं और 12वीं के क्लास के प्रदर्शन के आधार पर दिया जाएगा। इस बार में केंद्र सरकार द्वारा गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में जानकारी दी गई। केंद्र ने कहा 31 जुलाई तक 12वीं के नतीजे घोषित कर दिये जाएँगे। इसके अलावा जो बच्चे परिणाम से संतुष्ट नहीं होंगे, उन्हें फिर से परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा। 
सरकार द्वारा गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में 12वीं कक्षा का रिजल्ट तैयार किए जाने का फोर्म्युला दिया गया था। जिसमें 10वीं, 11वीं और 12वीं के सभी मार्क्स ध्यान में लिए जाएँगे। इसमें 10वीं कक्षा के प्रमुख पाँच विषयों में से तीन विषयों के थियरी पेपर के आधार पर मार्क्स गिने जाएँगे। इन तीन विषयों का भार 30 प्रतिशत लिया जाएगा। इसके बाद 11 वीं कक्षा के फाइनल परीक्षा की सभी थियरी पेपर को ध्यान में लिया जाएगा। जिसका भार भी 30 प्रतिशत होगा। इन सबके अलावा बचा हुआ 40 प्रतिशत 12वीं कक्षा के यूनिट टेस्ट, मिड टर्म और प्री-बोर्ड एग्जाम की परफॉर्मेंस के आधार पर मिलेगा। 
बता दे की कोर्ट ने स्पष्ट कर दिया की परीक्षाएँ रद्द करने के आदेश पर कोई भी सुनवाई नहीं होगी। सरकार की तरफ से कोर्ट में हाजिर हुए केके वेणुगोपाल ने कहा की इस फोर्म्युला के बाद छात्रों की शिकायत के किसी भी शिकायतों की सुनवाई के लिए एक समिति की भी गठित की जाएगी। बता दे की इस साल सीबीएसई में इस साल 14.5 लाख छात्र पंजीकृत किए गए थे। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें