सूरत नगर निगम की सामान्य सभा में भाजपा और आप के पार्षदों का आरोप-प्रत्यारोप

सूरत नगर निगम की सामान्य सभा का नजारा

सूरत महानगरपालिका की सामान्य सभा के दौरान भाजपा ने विकासलक्षी प्रोजेक्टों की जानकारी दी तो आम आदमी पार्टी ने नए क्षेत्रों में प्राथमिक सुविधा के कार्यो की गति बढ़ाने की मांग की।

नए क्षेत्र में प्राथमिक सुविधा, वेरा माफी, भुखंडों की बिक्री, कोरोनाकाल और चक्रवात से उभरने पर हुई चर्चा 
सूरत महानगरपालिका की ऑफ लाईन असामान्य सभा सं‌जिवकुमार ऑडिटोरियम में हुई जहां शासक पक्ष ने भाजपा शासन में विकासलक्षी प्रकल्पों की गुणगान किए वही विपक्षी पार्षदों ने शहर में शामिल नए क्षेत्र में प्राथमिक सुविधाओं में तेजी लाने के साथ कोरोनाकाल में लोगों के स्वास्थ के लिए भी योग्य कार्यवाही के सुझाव पेश किए। 
संजिवकुमार ओडीटोरियम में हुए सामान्य सभा के दौरान महापौर हेमाली बोघावाला ने चक्रवात तौखते से हुए नुकसानी के दौरान गुजरात को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक हजार करोड के राहत पेकेज की घोषणा पर आभार प्रस्ताव पेश किया। प्रश्नोत्तरीकाल में पार्षद गेमर देसाई ने कोरोनाकाल तथा चक्रवात के दौरान महानगरपालिका के पदाधिकारी, अधिकारी और शसाकों द्वारा उठाए गए योग्य कार्यवाही से शहर जल्द ही उभर गया। सूरत में भाजपा के शासन के दौरान दिर्घद्रष्टी के कारण कई बडे प्रोजेक्ट साकार हो पाए जिससे सूरत की शान में वृध्दि हुई है। खाडी रिडेवलोपमेन्ट, बीआरटीएस, केनाल कोरिडोर से सूरत को नई पहचान मिली है। 
सिनियर सदस्य सोमनाथ मराठे ने कहा कोरोनाकाल की पहली लहर में सावधानी पुर्वक उभरे सूरत शहरने दुसरी लहर का भी दडकर सामना किया। पडोशी राज्य महाराष्ट से भी कई मरीजों ने सूरत में कोरोना कि चिकित्सा लेकर स्वस्थ हुए। कोरोना संक्रमण से उभरने के साथ ही शहर में डामर की जगह अब सीसीरोड की निति शासकों ने बनाई है। 25 साल पुराने ड्रेनेज और पानी नेटवर्क को बदलने का आयोजन किया है। 
आम आदमी पार्टी के सदस्य किशोर रुपारेलिया ने कहा की सूरत में भैतिक सुविधाओं के साथ स्वास्थ सुविधाओं पर भी अधिक ध्यान देना जरूरी है। कोरोनाकाल के दौरान शहरवासियों को स्वस्थ माहोल प्रदान करने और तदुरूस्ती बनाए रखने के लिए भी पालिकाने भावी आयोजन करना जरूरी है। 
प्रश्नोत्तरी काल के बाद एजेन्डे के कामों पर भाजपा और आम आदमी पार्टी के पार्षदो ने आरोप प्रत्यारोप किए। नए क्षेत्र के गांवों में प्राथमिक सुविधाए जल्द प्रदान कि जाए, पालिका प्लोटों की निलामी न करे, वराछा क्षेत्र के विकास पर भी ध्यान दिया जाए, सरथाणा, पुणा जैसे क्षेत्र 2006 में शहर में शामिल हुए फिर भी विकास का अभाव होने की बाते विपक्षी पार्षदोने रखी। शासक पक्ष के नेता अमितसिंह राजपुत, स्थायी समिति अध्यक्ष परेश पटेल और  पार्षद दिनेश राजपुरोहित, धर्मेश वाणियावाला ने उसका खंडन किया। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें