अजीब गजब : 10 पत्नियां, 98 बच्चे और पांच सौ से अधिक पोते-पोतियां, मिलिए दुनिया के सबसे बड़े परिवार के मुखिया से

जितने लोग एक सोसाइटी में नहीं होते उससे ज्यादा इस परिवार में, 700 लोगों के इस परिवार की कहानी है रोचक

कुछ दिन पहले ही दुनिया की आबादी 8 अरब हो गई है। इस समय समाज में अधिकांश परिवार एक या दो बच्चों वाली परंपरा पर चलते है पर आज के समय में भी कुछ परिवार ऐसे है जिनमें दो से अधिक बच्चें होते है। हम आपको एक ऐसे परिवार के बारे में बताने जा रहे हैं जो इतना बड़ा है कि परिवार के मुखिया को अपने पोते पोतियों के नाम तक याद नहीं रहते। हम जिस शख्स की बात कर रहे है उसका नाम है मूसा हसादजी। इनके परिवार में इतने लोग हैं कि ये परिवार दुनिया में सबसे बड़ा परिवार बन गया।

इस परिवार में है इतने लोग


आपको जानकर आश्चर्य होगा कि अफ्रीकी देश यूगांडा के बूटालेजा डिस्ट्रिक्ट में रहने वाले मूसा हसादजी के एक या दो नहीं बल्कि 10 पत्नियां, 98 बच्चे और 568 पोते-पोतियां है. ऐसे में 700 सदस्यों वाले परिवार में हर किसी का नाम याद रखना भी मुखिया मूसा हसादजी के लिए एक बहुत मुश्किल काम है। बहुविवाह को भगवान का आशीर्वाद मानने वाले मूसा हसादजी ने एक के बाद एक कुल 10 शादियां की। जिनसे उनके 98 बच्चे 568 पोते पोतियां भी हैं। मूसा की सभी पत्नियां एक ही घर में साथ रहती हैं। जबकि बच्चों के लिए उन्होंने पास में ही अलग अलग झोपड़ियां बनवाई हैं। मूसा की सबसे छोटी पत्नी काकाजी मूसा के कई पोते पोतियों से भी कम है। इस पर मूसा की पत्नियों का कहना है कि अगर उनके पति चाहें तो और शादियां कर सकते हैं।

बड़ी मेहनत से परिवार को संभाला


अपनी जीवन यात्रा के बारे में मूसा ने बताया कि पहली शादी के लिए पत्नी से उन्हें दहेज के तौर पर तीन गाय और चार बकरियां मिली। ये सिलसिला तीन शादियों तक चलता रहा लेकिन जब जानवरों की तादाद तेजी से घटने लगी तो उन्होंने दहेज की संख्या भी कम कर दी। इस समय परिवार पर भारी संकट ले आया। परिवार में आई भुखमरी के समय कड़ी मेहनत से परिवार को संभला। कमजोर आर्थिक स्थिति के बीच मूसा और परिवार ने बाजरा का बिज़नेस शुरू किया, जो सफल हो गया।फिर क्या था, धीरे धीरे इलाके में एक सफल और समृद्ध व्यक्ति के तौर पर उनकी पहचान बन गई। स्थिति मजबूत होने के बाद मूसा ने और शादियां करना शुरू कर दिया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें