8 अप्रैल तक खुला रहेगा अहमदाबाद का क्राफ्ट बाजार, क्या आपने मुलाक़ात ली?

(Photo Credit : PIB)

स्थानीय लोगों को रोजगारी देकर हस्तकला के विकास के लिए किया गया प्रदर्शन, विभिन्न राज्यों के 100 से अधिक स्टॉल लगे

अहमदाबाद के वस्त्रापुर में भारत सरकार के वस्त्र मंत्रालय और गुजरात स्टेट हेंडलूम विवर्स असोशिएशन द्वारा एक क्राफ्ट बाजार का आयोजन किया गया है। जिसमें गुजरात और अन्य राज्यों के कुल 100 से भी अधिक स्टॉल लगाए गए थे। जिसमें जयपुर, उदयपुर, मुंबई, रांची जैसे शहरों के और अन्य कई राज्यों के हस्तकला के सर्जकों ने अपनी कारीगरी पेश की थी। 
उल्लेखनीय है की अहमदाबाद और कलोल में भारत सरकार के वस्त्र मंत्रालय AHVY प्रोजेक्ट के अंतर्गत हस्तकला और हेंडलूम की 100 मंडल और 1000 से अधिक संस्था कार्यरत है। चेरमेन परमार ने बताया की क्राफ्ट बाजार का प्रदर्शन और बिक्री कोविड के नियमों का पालन करते हुये की जा रही है। इसका मुख्य उद्देश्य हस्तकला और ग्रामउद्योग के स्थानिक कारीगरों को रोजगार देकर आत्मनिर्भर बनाना है। 
भारत सरकार ने भी अपनी प्रेस रिलीज में बताया की भारत के इतिहास में हस्तकला और बुनाई उसके अभिन्न अंग है। ग्राम्य इलाकों में रहने वाले लोग घर बैठकर हस्तकला के माध्यम से अलग-अलग चीजों का सर्जन कर रोजगार के साथ लोक-संस्कृति और परंपरा को जीवित रखा है। सांसद डॉ. किरीट सोलंकी ने इस बाजार को खोलते हुये बताया की इस प्रदर्शन का मुख्य उद्देश्य प्रधानमंत्री मोदी के 'वोकल फॉर लोकल' के सूत्र को आत्मसात कर के लोगों को स्वदेशी चीजों की तरफ मौडना है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें