अहमदाबाद : फकीरों के भेष में आए लुटेरों ने एक एनआरआई को लगाया चूना

(Photo Credit : divyabhaskar.co.in)

पुलिस ने जाँच में आरोपी को किया गिरफ्तार, कई शहरों में गिरोह के सक्रीय होने की जानकारी आई सामने

साबरमती रिवरफ्रंट पर फकीरों के वेश में लूटने वाले लुटेरों के एक गिरोह का पर्दाफाश हुआ है। फकीरों के वेश में गिरोह के सदस्यों ने अलग-अलग जगहों पर घूमते हुए लोगों से दरगाह की फोटो पर हाथ रखवा कर बरकत मिलने की बात कहते हुए अपना पर्स रख कर थोड़ी देर में उठा लेने की बात कही। इस में से रिवरफ्रंट पर फकीर के वेश में आए लुटेरे ने एक एनआरआई का 1100  डॉलर से भरा पर्स उड़ा। रिवरफ्रंट वेस्ट पुलिस ने इस तरह लोगों से ठगी करने वाले गैंग के एक आरोपी को गिरफ्तार किया है।
जानकरी के अनुसार अहमदाबाद के शाहीबाग में रहने वाले एनआरआई कुशलभाई रिवरफ्रंट पर गए थे। जब वे वहां बैठे थे तो दो लोग फकीर के भेष में आए। फिर चंदा मांगने के नाम पर युवक से 10 रुपये लिए। रिवरफ्रंट पर आधे घंटे में फिर से उनके पास आये। आरोपितों ने दो दरगाहों की फोटो पर हाथ रख आशीर्वाद देने के नाम पर कुशलभाई का पर्स हाथों में लिया। आधे घंटे बाद, पीड़ित कुशलभाई ने अपनी जेब में देखा कि उनके पर्स से लगभग 81,000 रुपये की कीमत के 1100 गायब है। पुलिस ने स्वांग करके लोगों को ठगने वाले फकीरों के खिलाफ शिकायत दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
शिकायत दर्ज करने के बाद रिवरफ्रंट वेस्ट पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर प्यारी सलात को गिरफ्तार किया है। पूछताछ ये सामने आया है की ये गैंग अगर किसी के पास जाता है तो कोई भी 10-20 रुपये दे देगा। भोले-भाले व्यक्ति को पहचानते हुए गिरोह ने लौटकर आशीर्वाद देने को कह कर लूट लेते है। आरोपी के साथ बुचो नाम का शख्स भी था। बुचा की पत्नी को भरूच में पैसे बेचते पाया गया है। माना जा रहा है कि आरोपी बुचा भी इसमें शामिल है और उसे पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। इस गिरोह के कम से कम आठ सदस्य सूरत, अहमदाबाद, वडोदरा जैसे इलाकों में लोगों को ठगने के लिए सक्रीय है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें