अहमदाबाद : 12 वें डिफेंस एक्सपो-2022 की मेजबानी करेगा गुजरात

प्रतिकारात्मक तस्वीर

रक्षा उपकरण उत्पादन के लिए गुजरात में है उपयुक्त इंफ्रास्ट्रक्चर और सुविधाः मुख्यमंत्री

निकट भविष्य में ग्लोबल डिफेंस मैन्यूफैक्चरिंग का हब बनेगा भारतः केंद्रीय रक्षा मंत्री
भारत सरकार के रक्षा मंत्रालय की ओर से हर दो वर्ष में आयोजित किए जाने वाले डिफेंस एक्सपो के 2022 में आयोजित होने वाले 12वें संस्करण की मेजबानी गुजरात करेगा। 10 से 13 मार्च, 2022 के दौरान रक्षा मंत्रालय के उत्पादन विभाग की ओर से यह प्रदर्शनी गांधीनगर में आयोजित की जाएगी। गुजरात में बड़े पैमाने पर आयोजित होने वाले डिफेंस एक्सपो-2022 के सुव्यवस्थित आयोजन को लेकर गुरुवार को केवड़िया स्थित स्टैच्यू ऑफ यूनिटी परिसर में केंद्रीय रक्षा मंत्री  राजनाथ सिंह और मुख्यमंत्री  विजय रूपाणी की उपस्थिति में समीक्षा बैठक हुई। 
इस अवसर पर डिफेंस एक्सपो-2022 के आयोजन में राज्य सरकार के संपूर्ण सहयोग और सुविधाओं के संबंध में रक्षा मंत्रालय के उत्पादन विभाग के संयुक्त सचिव और गुजरात के उद्योग आयुक्त ने केंद्रीय रक्षा मंत्री और मुख्यमंत्री की उपस्थिति में एक एमओयू पर हस्ताक्षर किए। मुख्यमंत्री  विजय रूपाणी ने इस बैठक में कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की प्रेरणा और रक्षा मंत्री के मार्गदर्शन से देश के अलग-अलग राज्यों में डिफेंस एक्सपो आयोजित करने की पहल सराहनीय है। उन्होंने आगामी डिफेंस एक्सपो-2022 के आयोजन के लिए गुजरात का चयन करने के लिए प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री का हार्दिक आभार व्यक्त किया। श्री रूपाणी ने कहा कि ऐसे डिफेंस एक्सपो के माध्यम से रक्षा क्षेत्र में देश की आत्मनिर्भरता और तेजी से बढ़ रही है। 
उन्होंने विश्वास जताया कि जिस तरह से गुजरात वाइब्रेंट समिट के सफल आयोजन से दुनियाभर के निवेशकों के लिए निवेश का सर्वश्रेष्ठ विकल्प बना है, उसी परिपाटी पर डिफेंस एक्सपो-2022 के आयोजन से रक्षा क्षेत्र में भी देश में सर्वाधिक निवेश प्राप्त करने वाला राज्य बनेगा। 
उन्होंने कहा कि गुजरात ने अपनी डिफेंस और एयरोस्पेस  पॉलिसी बनाई है। इतना ही नहीं, इस पॉलिसी के अंतर्गत रक्षा उपकरण उत्पादन इकाइयों के लिए जमीन खरीदी में स्टाम्प ड्यूटी से छूट और उत्पादन शुरू होने से लेकर पांच वर्ष तक इलेक्ट्रिसिटी ड्यूटी से माफी जैसे प्रोत्साहन भी गुजरात में दिए जाते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि रक्षा उपकरण उत्पादन के लिए जो इंफ्रास्ट्रक्चर और सुविधाएं चाहिए, वे सभी गुजरात में उपलब्ध हैं। धोलेरा विशेष निवेश क्षेत्र (एसआईआर-सर) में रक्षा उपकरण उत्पादन इकाइयों का श्रेष्ठ स्थल बनने की पूरी संभावनाएं हैं। विशाल रन-वे वाला हवाई अड्डा यहां निर्माणाधीन है और वेपन ट्रायल एंड टेस्टिंग रेंज के लिए आवश्यक जमीन भी उपलब्ध है। 
उन्होंने कहा कि गुजरात में आयोजित होने वाले डिफेंस एक्सपो-2022 से राज्य में रक्षा उपकरण उत्पादन एवं विनिर्माण क्षेत्र को नई दिशा मिलेगी। केंद्रीय रक्षा मंत्री श्री राजनाथ सिंह ने यह विश्वास व्यक्त किया कि गुजरात में डिफेंस एक्सपो-2022 का 12 वां संस्करण निश्चित ही ज्वलंत सफलता हासिल करेगा। 
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश को आत्मनिर्भर बनाने का जो मंत्र दिया है, उसका अनुसरण करते हुए रक्षा मंत्रालय द्वारा इस बार के डिफेंस एक्सपो में विभिन्न कंपनियों को रक्षा उपकरणों के उत्पादन में निवेश करने के लिए मार्गदर्शन के साथ प्रेरित किया जाएगा।  राजनाथ सिंह ने ऐसे डिफेंस एक्सपो के मार्फत ‘मेक इन इंडिया’ से ‘मेक फॉर वर्ल्ड’ की दिशा में आगे बढ़ने की मंशा व्यक्त करते हुए कहा कि निकट भविष्य में भारत के ग्लोबल डिफेंस मैन्यूफैक्चरिंग हब बनने की पूरी संभावनाएं हैं। 
उन्होंने कहा कि पिछली बार लखनऊ में आयोजित हुए डिफेंस एक्सपो के ग्यारहवें संस्करण में 70 देशों की लगभग 1000 कंपनियों ने भाग लिया था। इस बार के एक्सपो में भाग लेने वाले देशों की संख्या को बढ़ाकर 100 तक ले जाने का लक्ष्य निर्धारित किया है। 
केंद्रीय रक्षा मंत्री ने कहा कि डिफेंस एक्सपो के साथ डिफेंस मिनिस्टर्स कॉन्क्लेव भी आयोजित की जाती है। गांधीनगर में भी विभिन्न देशों के रक्षा मंत्रियों का अधिवेशन आयोजित करने की योजना है। पिछली बार उसमें 40 देशों के रक्षा मंत्रियों ने शिरकत की थी। 
रक्षा मंत्री ने प्रेरक सुझाव देते हुए कहा कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी आज पूरी दुनिया में मशहूर पर्यटन स्थल बन गया है, ऐसे में डिफेंस एक्सपो में आने वाले देश-विदेश के मेहमानों को इस पर्यटन स्थल पर ले जाने की व्यवस्था करना योग्य होगा। 
इस प्रदर्शनी में कई इवेंट, कॉन्क्लेव, सेमिनार और बिजनेस एक्टिविटीज आयोजित की जाएंगी। रक्षा प्रदर्शनी, पब्लिक सेक्टर यूनिट ऑफ डिफेंस को बढ़ावा देने, निजी रक्षा क्षेत्र से संबंधित उद्योगों व स्टार्टअप तथा लघु उद्योगों सहित रक्षा क्षेत्र के विभिन्न उपकरणों का डेमोन्स्ट्रेशन, गोलमेज सम्मेलन और वेबिनार जैसे कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।
इसका उद्देश्य ‘मेक इन इंडिया’ को बढ़ावा देने के साथ ही देश को रक्षा उपकरणों के उत्पादन का बड़ा हब बनाना और एयरोस्पेस एवं रक्षा क्षेत्र में नवाचार, स्टार्टअप एवं लघु उद्योगों को प्रोत्साहित करना भी है। बैठक में डिफेंस एक्सपो-2022 के आयोजन के संदर्भ में विस्तृत प्रेजेंटेशन भी प्रस्तुत किया गया। 
इस उच्चस्तरीय बैठक में रक्षा उत्पादन सचिव राजकुमार, राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. राजीव कुमार गुप्ता, मुख्यमंत्री के सलाहकार एयर मार्शल आर.के. धीर, रक्षा मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी चंद्राकर भारती और अचल मलहोत्रा, गुजरात के उद्योग आयुक्त राहुल गुप्ता और औद्योगिक विस्तार ब्यूरो (इंडेक्स्ट-बी) की प्रबंध निदेशक श्रीमती नीलम रानी मौजूद थीं। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें