अहमदाबाद : ब्राजील की पशुपालन और दुग्ध क्रांति में गुजरात का बड़ा योगदान : मुख्यमंत्री

ब्राजील के राजदूत ने की मुख्यमंत्री से शिष्टाचार मुलाकात

भारत में ब्राजील के राजदूत ने की मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल से शिष्टाचार मुलाकात

ऊर्जा क्षेत्र में गुजरात की प्रगति ब्राजील के लिए प्रेरणादायक :  ब्राजील के राजदूत
मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल से शुक्रवार को भारत में ब्राजील के राजदूत आंद्रे अरन्हा कोरिया डो लागो ने गांधीनगर में शिष्टाचार मुलाकात की। मुख्यमंत्री ने इस शिष्टाचार मुलाकात बैठक में ब्राजील के राजदूत से कहा कि ब्राजील ने पशुपालन और दुग्ध उत्पादन के क्षेत्र में जो क्रांति की है उसके मूल में गुजरात का बड़ा योगदान है। इस संदर्भ में मुख्यमंत्री ने गुजरात के भावनगर की पूर्व रियासत के महाराज कृष्णकुमार सिंह जी द्वारा ब्राजील को भेंट दिए गए गिर नस्ल के सांड की याद ताजा की। 
श्री भूपेंद्र पटेल ने विश्वास जताया कि ब्राजील और गुजरात के बीच पूंजीनिवेश, व्यापार और वाणिज्य के संबंधों को और भी व्यापक रूप से विकसित करने में गुजरात की विभिन्न नीतियां प्रोत्साहक साबित होंगी। उन्होंने आगे कहा कि गुजरात इंटीग्रेटेड लॉजिस्टिक्स एंड लॉजिस्टिक पार्क पॉलिसी-2021, इलेक्ट्रिक व्हीकल पॉलिसी-2021, सोलर एनर्जी पॉलिसी और इंडस्ट्रियल पॉलिसी जैसी प्रोत्साहक नीतियों के माध्यम से पॉलिसी ड्रिवन स्टेट बना है। मुख्यमंत्री ने ब्राजील से खनिज पदार्थ और ऑयल के आयात की जानकारी देते हुए इथेनॉल ईंधन की खपत में ब्राजील के अनुभव ज्ञान का सहयोग गुजरात को मिले उसके लिए उत्सुकता दिखाई। 
 भूपेंद्रभाई पटेल ने भारत की एकता और अखंडता के शिल्पकार सरदार वल्लभभाई पटेल की विश्व की सबसे विराट प्रतिमा- स्टैच्यू ऑफ यूनिटी का भी उल्लेख करते हुए कहा कि ब्राजील की क्राइस्ट द रिडीमर की प्रतिमा भी स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के निर्माण की एक प्रेरणास्रोत बनी है। ब्राजील के राजदूत  आंद्रे अरन्हा कोरिया डो लागो ने मुख्यमंत्री से कहा कि गुजरात ने ऊर्जा क्षेत्र में जो प्रगति की है उससे ब्राजील को बड़ी प्रेरणा मिलेगी। उन्होंने इथेनॉल ईंधन के उपयोग में ब्राजील के 50 वर्ष के विशाल अनुभव और वाहनों में ईंधन के रूप में उसके सफल उपयोग के संबंध में भी मुख्यमंत्री को जानकारी दी। 
ब्राजील के राजदूत ने आगे कहा कि वे गुजरात में स्थित अडालज की वाव (अडालज की बावड़ी) सहित अन्य स्थापत्य विरासतों से भी काफी प्रभावित हुए हैं। मुख्यमंत्री ने आगामी वाइब्रेंट समिट-2022 में ब्राजील की भागीदारी का उन्हें निमंत्रण दिया। उन्होंने स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की प्रतिकृति बतौर स्मृति चिन्ह ब्राजील के राजदूत को भेंट की। इस शिष्टाचार मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव  के. कैलाशनाथन, उद्योग विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. राजीव कुमार गुप्ता और मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव  पंकज जोषी भी मौजूद थे। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें