अहमदाबाद : जल प्रबंधन और साइबर सिक्योरिटी के क्षेत्र में गुजरात को मिले इजरायली विशेषज्ञता का लाभ : मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल

इजरायल के मुंबई स्थित महावाणिज्य दूत ने की मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल से शिष्टाचार भेंट

आगामी वाइब्रेंट समिट में सहभागिता के लिए मुख्यमंत्री ने इजरायल को दिया निमंत्रण
मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल से मंगलवार को मुंबई स्थित इजरायली महावाणिज्य दूत  कोबी शोशानी ने गांधीनगर में शिष्टाचार मुलाकात की। इजरायल के महावाणिज्य दूत ने भारत के साथ इजरायल के संबंधों की पृष्ठभूमि में कहा कि भारत की युवा पीढ़ी की विशेषज्ञता व उत्सुकता और इजरायल की तकनीक के विनियोग से सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, ड्रोन टेक्नोलॉजी, साइबर मामले, डिसेलिनेशन प्लांट और जल प्रबंधन के क्षेत्र में परस्पर सहयोग से हासिल की गई उत्कृष्टता की प्रशंसा की। कोबी शोशानी ने विशेषकर जल प्रबंधन और साइबर सिक्योरिटी के क्षेत्र में इजरायल के वर्ल्ड लीडर होने की जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री से कहा कि सहयोग, समन्वय और पारस्परिक साझेदारी से इजरायल और गुजरात के संबंध आगे बढ़ सकते हैं। उन्होंने कोरोना के संकट काल में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत की ओर से दुनिया के देशों को वैक्सीन पहुंचाने के मानवतावादी और बंधुत्व भाव से प्रेरित प्रयोग की सराहना की। 
मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने उम्मीद जताई कि इजरायली महावाणिज्य दूत के गुजरात के इस पहले दौरे से द्विपक्षीय संबंधों को नई दिशा मिलेगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के रूप में नरेन्द्र मोदी के कार्यकाल के दौरान इजरायल-भारत के संबंध और भी सुदृढ़ बने हैं। जल प्रबंधन और साइबर सिक्योरिटी के क्षेत्र में इजरायल की विशेषज्ञता का लाभ गुजरात को मिले इसके लिए मुख्यमंत्री ने तत्परता भी दिखाई। भूपेंद्र पटेल ने आई-क्रिएट के सेंटर ऑफ एक्सीलेंस, वेजिटबल और खजूर के लिए रिसर्च एवं सेंटर ऑफ एक्सीलेंस की स्थापना में मिले इजरायल के सहयोग और डिसेलिनेशन प्लांट के इजरायली पैटर्न का लाभ गुजरात को मिलने पर आभार व्यक्त किया। 
मुख्यमंत्री  भूपेंद्र पटेल ने इजरायल के महावाणिज्य दूत के साथ बातचीत में यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने दुनिया को यह दिखाया है कि ‘सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास’ मंत्र से सभी को साथ लेकर विकास कैसे साधा जा सकता है। 
मुख्यमंत्री ने इजरायल के महावाणिज्य दूत से अनुरोध किया कि वे प्रधानमंत्री द्वारा आत्मनिर्भर भारत की संकल्पना के साथ तैयार की गई सरदार पटेल की दुनिया की सबसे ऊंची प्रतिमा- स्टैच्यू ऑफ यूनिटी को जरूर देखें। उन्होंने आगामी वाइब्रेंट समिट 2022 में इजरायल को भाग लेने का निमंत्रण देते हुए पहले की वाइब्रेंट समिट में इजरायल के प्रतिनिधिमंडलों की सहभागिता तथा पूर्व प्रधानमंत्री नेतन्याहू के गुजरात के सफल दौरे की याद ताजा की। इस मुलाकात बैठक में उद्योग विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. राजीव कुमार गुप्ता और मुख्यमंत्री के अतिरिक्त मुख्य सचिव पंकज जोषी भी शामिल थे। मुख्यमंत्री ने इजरायली महावाणिज्य दूत को स्टैच्यू ऑफ यूनिटी की प्रतिकृति बतौर स्मृति चिन्ह भेंट की। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें