अहमदाबाद : खास गरबा खेलने आई विदेशी लड़की ने जमाया आकर्षण

गरबा खेलने आई विदेशी लड़की

यह महिला यूरोपीय संघ के देश ऑस्ट्रिया से अहमदाबाद सिर्फ गरबा खेलने आई थी

 शहर में दूर-दूर से लोग नवरात्रि मनाने के लिए आते हैं, ऐसे में यूरोप की एक विदेशी महिला अहमदाबाद में गरबा खेलने आई है। यह विदेशी महिला यूरोप में व्यापार करती है। यह महिला अहमदाबाद में एक खास गरबा खेलने आई है, इसलिए आकर्षण का केंद्र बनी हुई है। यूरोप की यह महिला पारंपरिक पोशाक में गरबा खेलने वालों के आकर्षण का केंद्र बन गई है। यह महिला यूरोपीय संघ के देश ऑस्ट्रिया से अहमदाबाद सिर्फ गरबा खेलने आई थी। अहमदाबाद के शाहीबाग इलाके में विस्बुलिट नाम की महिला ने दोस्तों के साथ गरबा खेला। 

सुरेंद्रनगर के रोटरी क्लब में ब्राजील की एक लड़की चनियाचोली पहने गरबा खेलती नजर आई


वहीं, सुरेंद्रनगर के रोटरी क्लब में ब्राजील की एक लड़की चनियाचोली पहने गरबा खेलती नजर आई। ब्राजील के फर्नांडो एलन ने गुजरात की संस्कृति को जाना और उसका आनंद लिया। ऐलेन को गरबा के साथ खेलते देख लोग भी हैरान रह गए। सुरेंद्रनगर में रोटरी क्लब द्वारा नवरात्रि महोत्सव का आयोजन किया गया है, जबकि सुरेंद्रनगर से आई ब्राजील की एक लड़की इस नवरात्रि महोत्सव में रोटरी क्लब के छात्र विनिमय कार्यक्रम के तहत घूमते हुए लोगों के बीच आकर्षण का केंद्र बन गई है। ब्राजील के फर्नांडो एलिन पिछले दो महीने से सुरेंद्रनगर रोटरी क्लब के एक सदस्य के घर पर रहकर भारतीय संस्कृति की जानकारी ले रहे हैं।

नवरात्रि उत्सव में ब्राजील की यह लड़की आकर्षण का केंद्र बनी

जब नवरात्रि में मां की आराधना का पर्व होता है तो सुरेंद्रनगर में गली गरबा में महिलाएं घूमती नजर आती हैं, वहीं सुरेंद्रनगर रोटरी क्लब द्वारा आयोजित नवरात्रि महोत्सव में पारंपरिक भारतीय पोशाक में एक विदेशी लड़की भी घूमती नजर आती है। सुरेंद्रनगर-अहमदाबाद रोड स्थित कैम्ब्रिज स्कूल में रोटरी क्लब ऑफ वडवान सिटी और वडवान सिटी के रोटारैक्ट क्लब की ओर से  आयोजित नवरात्रि उत्सव में ब्राजील की यह लड़की आकर्षण का केंद्र बनी। 
ब्राजील के फर्नांडो एलिन रोटरी यूथ एजुकेशन प्रोग्राम के तहत पिछले 2 महीने से झालावाड़ में हैं। वह 11 महीने तक सुरेंद्रनगर के रोटेरियन कार्तिकभाई पटेल के घर रहकर भारतीय संस्कृति के बारे में जानकारी लेंगी। झालावाड भी उसे चनियाचोली, एक अंतरंग परिधान में घूमते हुए देखकर दंग रह गए। दो महीने की छोटी सी अवधि में, वह अच्छी गुजराती भी बोलती है और यह भी कहती है कि उसे गरबा खेलने में मज़ा आता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें