तालिबानों के चंगुल से स्कूल की छात्राओं को बचाने के लिए आचार्य ने जला डाले सारे रिकॉर्ड, जानें क्या कहा

(Photo Credi : twitter.com)

देश का एक मात्र बोर्डिंग स्कूल चलाने वाली शबाना ने जलाए छात्राओं के सभी रिकॉर्ड, तालिबानों के हाथ नहीं लगने देना चाहती थी आचार्या

अफगानिस्तान पर आतंकवादी संगठन तालिबान ने कब्जा हासिल कर लिया है। इसके चलते सबसे अधिक देश में महिलाएं असुरक्षित महसूस कर रही है। इसके पहले के तालिबानी शासन को याद कर के सभी काफी चिंतित है। तालिबानियों द्वारा खास तौर पर लड़कियों को अपना शिकार बनाया जाता है, इस बात को खास ध्यान में रखते हुये अफगानिस्तान की एक मात्र बोर्डिंग स्कूल के सह-संस्थापक ने एक बड़ा फैसला लिया है। 
आतंकवादियों से अपनी स्कूल की छात्राओं को बचाने के लिए बोर्डिंग स्कूल के सह-संस्थापक ने स्कूल के सभी छात्रों का रिकॉर्ड जलाकर खाक कर दिया है। बोर्डिंग स्कूल की संस्थापक और आचार्या शबाना बासिज रसीख ने इस बारे में ट्वीट भी किया है। उनका कहना है की उनको मात्र इस बात का डर सता रहा था की कहीं स्कूल के रिकॉर्ड के माध्यम से तालिबानी बच्चों तक और खास कर के छात्राओं तक ना पहुँच जाये। इसलिए अपनी जान को जोखिम में भी डाल कर उसने वह सबभी रिकॉर्ड जला डाले। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें