गुजरात : कलोल में लोकल ट्रेनों की संख्या घटने से यात्री प्रभावित, एक्सप्रेस व मेल ट्रेनों को रोकने की मांग की

गुजरात : कलोल में लोकल ट्रेनों की संख्या घटने से यात्री प्रभावित, एक्सप्रेस व मेल ट्रेनों को रोकने की मांग की

 केवल पांच ट्रेनें चल रही हैं, लोग महंगा एसटी किराया देने को मजबूर 

 कलोल शहर औद्योगिक रूप से बहुत उन्नत है, फिर भी रेलवे द्वारा इसकी सतत अवगणना की जा रही है ऐसा नागरिकों का मानना है। कलोल, छत्राल, खात्रज एवं सांतेज जीआईडीसी में बड़ी संख्या में दूसरे राज्यों के लोग रहते हैं और हजारों की संख्या में उनकी रोजाना आवाजाही होती है। लेकिन लंबी दूरी की ट्रेनों को कलोल रेलवे स्टेशन पर स्टॉपेज नहीं दिए जाने से यात्रियों को परेशानी हो रही है। इन यात्रियों को अपनी राज्य की ट्रेन पकड़ने के लिए अहमदाबाद या मेहसाणा जाना पड़ता है। ऐसे में लोगों की मांग रही है कि रेलवे एक्सप्रेस और मेल ट्रेनों को कलोल में स्टॉपेज दे। इस मामले में स्थानीय सांसद व विधायक को दखल देकर समस्या का समाधान करना जरूरी हो गया है।

रोजाना 20 से ज्यादा ट्रेनें चल रही थीं

पांच साल पहले जब कलोल में मीटर गेज ट्रेनें चलती थीं, तब अहमदाबाद और मेहसाणा के बीच रोजाना 20 से ज्यादा ट्रेनें चलती थीं, जबकि अब सिर्फ पांच ट्रेनें चल रही हैं। इन ट्रेनों के कारण अहमदाबाद और मेहसाणा के बीच के गाँवों को बहुत लाभ हुआ और तेज़ और सस्ती यात्रा का लाभ मिला। उत्तर गुजरात के छात्रों और नौकरी करने वालों के लिए अहमदाबाद आना काफी आसान हो गया। लेकिन ब्रॉडगेज के परिचालन के बाद सिर्फ पांच ट्रेनें चल रही हैं, लोग एसटी का महंगा किराया देने को मजबूर हैं।

ट्रेनों का समय बदलने की मांग

कलोल तालुका मुख्यालय होने के कारण आसपास के 10 से 15 गांवों के लोग ट्रेन से कलोल आते थे। इसके अलावा कलोल से अहमदाबाद और मेहसाणा के लिए ज्यादा ट्रेनें मिलने से लोगों को राहत मिली, लेकिन गेज परिवर्तन और विद्युतीकरण के बाद लोकल ट्रेन सेवा ठप हो गई है। कलोल से मेहसाणा के लिए सुबह एक को छोड़कर कोई ट्रेन नहीं है और शाम को अहमदाबाद के लिए कोई ट्रेन नहीं है। इसके अलावा पाटन डेमू के साबरमती से प्रस्थान का समय भी बदल दिये जाने से नौकरी करने वालों को परेशानी हो रही है। वहीं वलसाड-वरेठा ट्रेन को भी कलोल में स्टॉपेज नहीं दिया जाता है ऐसे में अगर अहमदाबाद-कलोल-मेहसाणा के बीच और लोकल ट्रेनें चलाई जाएं तो आम लोगों को काफी फायदा हो सकता है। 

Tags: kalol

Related Posts