इस कंपनी में करेंगे काम तो रहेंगे मालामाल, अपने कर्मचारियों को लाखों की सैलरी दे रही ये कंपनी

प्रतिकारात्मक तस्वीर (Photo: pixabay..com)

एफएमसीजी, होटल, सॉफ्टवेयर, पैकेजिंग, पेपरबोर्ड, स्पेशियलिटी पेपर और एग्री सहित कारोबार में शामिल आईटीसी में 44 फीसदी करोड़पति कर्मचारी हैं

आज के समय महंगाई तेजी से बढ़ रही है। उसके सामने हम लोगों का वेतन उतना नहीं बढ़ रहा है, जितना होना चाहिए। इससे वेतनभोगी वर्ग के लिए परेशानी खड़ी हो गई है। वेतन की तुलना में खर्च लगातार बढ़ रहा है। अधिकांश कंपनियां तब हर साल वेतन में एक निश्चित प्रतिशत की वृद्धि करती हैं, लेकिन यह वृद्धि मौजूदा मुद्रास्फीति का सामना नहीं कर सकती है। बेशक देश में एक ऐसी कंपनी है जिसने अपने कर्मचारियों को करोड़पति बनाया है। कंपनी करोड़पति कर्मचारियों की संख्या में लगातार वृद्धि देख रही है।
रिपोर्ट्स के मुताबिक, एफएमसीजी, होटल, सॉफ्टवेयर, पैकेजिंग, पेपरबोर्ड, स्पेशियलिटी पेपर और एग्री सहित कारोबार में शामिल आईटीसी में 44 फीसदी करोड़पति कर्मचारी हैं। वित्तीय वर्ष 2021-22 में 1 करोड़ रुपये से अधिक कमाने वाले कर्मचारियों की संख्या में 44% की वृद्धि हुई है। आईटीसी की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक साल 2020-21 में सालाना 1 करोड़ रुपये से ज्यादा कमाने वाले कर्मचारियों की संख्या 153 थी। अब यह संख्या बढ़कर 220 हो गई है।
पिछले साल की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी में 220 कर्मचारी थे जिन्होंने पूरे साल काम किया और कुल वेतन 1 करोड़ रुपये से अधिक अर्जित किया। वित्त वर्ष में आईटीसी के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक संजीव पुरी की सैलरी में भी 5.35 फीसदी की बढ़ोतरी की गई। इस वृद्धि के परिणामस्वरूप, उनका वेतन 12.59 करोड़ रुपये हो गया है।
वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, पुरी का वेतन सभी कर्मचारियों के औसत वेतन के अनुपात में 224:1 था। वित्तीय वर्ष 2021 में पुरी का कुल पारिश्रमिक 11.95 करोड़ रुपये था। आईटीसी के कार्यकारी निदेशकों बी सुमंत और आर टंडन को वित्तीय वर्ष में क्रमश: 5.76 करोड़ रुपये और 5.60 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया।
रिपोर्ट्स के मुताबिक आईटीसी में कर्मचारियों की संख्या में कमी आई है। पिछले साल की तुलना में इस साल 8.4 फीसदी कम कर्मचारी हैं। पिछले मार्च तक आईटीसी में कर्मचारियों की संख्या 23829 है। 21,568 पुरुष और 2,261 महिला कर्मचारी थे। FY2022 में ITC कर्मचारियों के औसत वेतन में 7% की वृद्धि हुई। वहीं, एक साल पहले आईटीसी का कुल राजस्व 48,151.24 करोड़ रुपये था। जो 31 मार्च 2022 को समाप्त वित्त वर्ष में बढ़कर 59,101 करोड़ रुपये हो गया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें