काबुल में हुये धमाके में अमेरिकी सैनिकों की मृत्यु से बौखलाए अमेरिकी राष्ट्रपति, जानें दी क्या चेतावनी

(Photo Credit : IANS)

दोहरे बम ब्लास्ट में मारे गए 13 अमेरिकी सैन्यकर्मी, कुल 150 से भी अधिक घायल

काबुल/नई दिल्ली, 27 अगस्त (आईएएनएस)| अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने काबुल एयरपोर्ट पर हमले के बाद हमलावरों से बदला लेने की शपथ लेते हुए कहा कि वह 'उन्हें ढूंढ निकालेंगे।' काबुल में हामिद करजई अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे पर हुए भीषण दोहरे बम हमलों के कम से कम 90 लोग मारे गए हैं, जिनमें ज्यादातर अफगान नागरिक हैं और 13 अमेरिकी सैन्यकर्मी मारे गए हैं और 150 से अधिक घायल हुए हैं।
तालिबान के एक अधिकारी का कहना है कि मारे गए अफगानों में से कम से कम 28 तालिबान के सदस्य थे। एक पश्चिमी सुरक्षा अधिकारी ने एक वैश्विक न्यूज वायर को बताया कि हमलों के बाद अब नागरिकों की निकासी तेज हो गई हैं और विमान नियमित रूप से उड़ान भर रही हैं। अमेरिका ने चेतावनी दी है कि और हमले हो सकते हैं, अमेरिकी कमांडरों ने कहा कि वे हवाई अड्डे को निशाना बनाने वाले संभावित रॉकेट या वाहन-जनित बमों के लिए अलर्ट पर हैं।
काबुल हवाईअड्डे पर हुए विस्फोट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए ब्रिटेन के कंजरवेटिव सांसद और विदेश मामलों की समिति के अध्यक्ष टॉम तुगेंदत ने कहा है कि जब भी इस्लामी चरमपंथी सत्ता संभालते हैं, आतंक बढ़ जाता है। उन्होंने कहा, "काबुल हवाई अड्डे पर निर्दोष लोगों पर हमला दिखाता है कि तालिबान शासन अपने साथ क्या लेकर लाया है। पैटर्न अच्छी तरह से स्थापित है - नाइजीरिया और माली से सीरिया और इराक तक, जब भी इस्लामी चरमपंथी सत्ता संभालते हैं, आतंक फैल जाता है।"
उन्होंने कहा कि तालिबान शासन ने इसे तालिबान शासन की भयावहता से बचने की कोशिश कर रहे निर्दोष लोगों तक पहुंचाया है। द गार्जियन ने बताया कि काबुल हवाई अड्डे पर आत्मघाती बम विस्फोट का मुख्य संदिग्ध अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट से संबद्ध है, जिसे इस्लामिक स्टेट खुरासान प्रांत, आईएसआईएस-केपी के नाम से जाना जाता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें