दुखद : क्या हुआ जब एक अविवाहित लड़की पहुंची गर्भपात कराने?

एक महिला ने साझा की अपनी कहानी, जब पैसों के चक्कर मे डॉक्टरों ने दिखाई थी असंवेदनशीलता

माँ बनने का सुख किसी भी स्त्री के लिए एक नए जन्म जैसा होता है। लेकिन विवाह के पहले मां बनना किसी दूसरे से कम नहीं होता आज भी भारतीय समाज में किसी स्त्री का विवाह के पहले गर्भवती होना बहुत बड़ा अपराध माना जाता है। इतना ही नहीं अविवाहित लड़की को गर्भपात कराने के लिए काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। विवाह से पहले गर्भवती होने वाली लड़कियों के मजबूरी का फायदा क्लीनिक और डॉक्टर भी उठाते हैं। ऐसा ही कुछ हुआ 19 साल की एक लड़की के साथ जिसे अचानक एक दिन पता चला कि वो प्रेग्नेंट है। जिसके बाद वह डॉक्टर के पास गई। लेकिन वहां उसके साथ जो हुआ उसने डॉक्टरों पर से विश्वास खो दिया।

क्या है इस लड़की की कहानी?


जब लड़की के साथ यह घटना हुई तब वह कॉलेज की छात्रा थी। अपनी कहानी बताते हुए उन्होंने कहा, "पहली बार जब मैं गर्भवती हुई, तब मैं 19 साल की थी। मुझे पहले से ही यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन था, इसलिए मैंने बार-बार टॉयलेट जाने को नजरअंदाज कर दिया, जो कि गर्भावस्था के मुख्य लक्षणों में से एक है। मुझे मॉर्निंग सिकनेस, उल्टी या जी-मचलने जैसी कोई समस्या नहीं थी। लेकिन जब कई हफ्तों के बाद मेरा मासिक नहीं आया , तो मैं चिंतित हो गई। उस समय मैं एक प्रेम-संबंध में थी और मुझे डर था कि मैं गर्भवती हो सकती हूं। मेरा प्रेमी उस समय मुंबई में था और मैं कॉलेज की छुट्टियों के लिए गुवाहाटी गया था। मेरे लिए, उसके और मेरे कुछ करीबी लोगों के बिना इस स्थिति से बाहर निकलना आसान नहीं था।"


लड़की ने आगे कहा, "मुझे अनियमित पीरियड्स आते थे इसलिए शुरू में मैंने और मेरे बॉयफ्रेंड ने इसे नजरअंदाज कर दिया। एक महीना बीत गया और दूसरा महीना शुरू हो गया लेकिन मुझे पीरियड्स नहीं आए। इसके बाद मुझे इसकी चिंता होने लगी। इसलिए मैंने इसे खुद इसका टेस्ट लिया। कई गर्भावस्था परीक्षण किए जो सभी सकारात्मक थे। पांच से छह सप्ताह के बाद मुझे पता चला कि मैं गर्भवती थी और यह मेरे लिए बहुत डरावना था। मैं उस समय अपने परिवार के साथ रह रही थी।"

डॉक्टरों ने जबरन किया सर्जिकल गर्भपात


आगे अपनी आपबीती सुनाते हुए लड़की ने बताया 'जब मैंने इस बारे में अपने साथी से बात की तो उसने मुझे कुछ डॉक्टरों के नाम बताए जिनसे वह पहले ही बात कर चुका था और स्थिति के बारे में बता चुका था। मैं अपने दोस्त के साथ डॉक्टर के पास पहुंची। वहां पहुंचकर डॉक्टर ने मुझ पर सर्जिकल अबॉर्शन के लिए दबाव बनाना शुरू कर दिया। हालांकि यह बिना सर्जरी के दवाओं से भी संभव था। लेकिन उन्होंने इसका जिक्र तक नहीं किया। लेकिन मैंने खुद इस बारे में जानकारी इकट्ठा की। मुझे जानकारी मिली और मैंने फैसला किया कि मुझे यह सब कैसे करना है। जब उसने मुझे सर्जिकल गर्भपात के बारे में बताया, उसकी फीस का क्या करना है या नहीं, आदि, तो मैंने उससे कहा कि मैं इसे दवा के जरिए करना चाहती हूं। वह यह सुनकर खुश नहीं थे कि मैं दवाओं के बारे में जानती थी और उसके माध्यम से गर्भपात करवाना चाहती थी। वो खुश नहीं थे क्योंकि शायद उसने सोचा था कि अब उन्हें वह पैसा नहीं मिलेगा जो उसने सोचा था।

दवाइयों के दाम ज्यादा बताए


इसके बाद जब उन्होंने मुझे जो दवाएं बताईं, उनकी कीमत केमिस्ट स्टोर से तीन गुना ज्यादा थी। जो मुझे अपने दूसरे गर्भपात के दौरान पता चला। डॉक्टर ने मुझे बताया कि इसे कैसे खाना है और मुझे कैसा लगेगा। दवा लेने के बाद पहला दिन मेरे जीवन का सबसे दर्दनाक दिन निकला। मैं अत्यधिक रक्त प्रवाह और कष्टदायी दर्द का अनुभव कर रही थी। मेरा शरीर शिथिल हो गया और मुझे उस दिन मुंबई के लिए फ्लाइट पकड़नी थी।

कुछ पैसे के लालच ने मुझे सदमे में छोड़ दिया


अपने दुःखद अनुभव के बारे में महिला ने कहा, "मैं उस समय सोच रही थी कि अगर डॉक्टर पैसे का लालची न होता तो मुझे इतना दर्द न झेलना पड़ता। मैं जवान थी, स्वस्थ थी और मुझे कोई परेशानी नहीं थी, इसलिए मैंने यह रास्ता चुना। लेकिन डॉक्टर ने मुझे इस फैसले पर एक बुरी समीक्षा दी जिससे मुझे बहुत तनाव हुआ। दरअसल जब मैंने उसे सर्जिकल गर्भपात के लिए मना कर दिया, तो उसका व्यवहार पूरी तरह से बदल गया। इससे मुझे बहुत तनाव हुआ। मुझे पूरी घटना से उबरने में 20 से 25 दिन लगे। मैं दिन-रात यह सोचकर रोती रही कि शायद मुझपर बच्चा पैदा करने का दबाव बनाया जा रहा है।"

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें