भारत नहीं बल्कि इस देश में भी है हजारों साल पुराना रहस्यमयी शिवलिंग

(Photo Credit : sandesh.com)

वहां के लोग इसे मानते है भाग्य का पत्थर

दुनिया में बहुत सी रहस्यमयी मंदिर और मूर्तियाँ हैं। ऐसा ही एक रहस्यमयी शिवलिंग है, लेकिन यह भारत में नहीं बल्कि आयरलैंड में है। कहा जाता है कि आयरलैंड में सैकड़ों साल पहले जादुई शक्तियों वाले लोगों ने इस शिवलिंग की स्थापना की थी। कई बार लोगों ने उन्हें चोट पहुंचाने की कोशिश की, लेकिन कोई इनका कुछ नहीं बिगाड़ सका।
जानकारी के अनुसार आयरलैंड के काउंटी मिथ में तारा हिल क्षेत्र में विशाल पत्थर की ईंटों का घेरा बनाकर इस शिवलिंग की स्थापना की गई थी। वहां के लोग इसे एक रहस्यमयी पत्थर मानते हैं और इसे लिआ फिल (भाग्य का पत्थर) कहते हैं और इसकी पूजा करते है। फ्रांसीसी भिक्षुओं के प्राचीन दस्तावेज के अनुसार, चार मास्टर्स के खनिक, इसकी स्थापना एक निश्चित जादुई शक्ति वाले समूह के नेता टुथा डी डेनॉन ने की थी। यह दस्तावेज़ 1632-1636 में लिखा गया था। तूथा दी दान यानी देवी दानू की संतान ने 1897 ईसा पूर्व से 1700 ईसा पूर्व तक आयरलैंड पर शासन किया। यह पत्थर इतना खास था कि इसका इस्तेमाल 500 ईस्वी तक सभी आयरिश राजाओं के राज्याभिषेक के लिए किया जाता था।
देवी दानू यूरोपीय परंपरा में एक नदी देवी थी। इससे कई नदियां भी जुड़ी हुई हैं। कुछ आयरिश ग्रंथों में देवी दानू के पिता को सर्वश्रेष्ठ देवता कहा गया है। वैदिक परंपरा में भी दानू देवी का उल्लेख मिलता है। दनु देवी दक्ष की बेटी और नदियों की देवी कश्यप मुनि की पत्नी थीं। संस्कृत में दानु शब्द का अर्थ बहता हुआ जल होता है। दक्ष सती और दानु की पुत्री थीं। दक्ष की दूसरी पुत्री माता सती का विवाह भगवान शिव से हुआ था। वैदिक परंपरा को मानने वालों के अनुसार लिया फेल नाम काफी हद तक शिव लिंग से मिलता-जुलता है।
आपको बता दें कि कई लोगों ने आयरिश शिवलिंग को तोड़ने की कोशिश की, लेकिन वह क्षतिग्रस्त नहीं हुआ। पूरे विश्व में भगवान शिव की पूजा की जाती थी। इसके बहुत सारे सबूत हैं। आईएस आतंकवादियों द्वारा नष्ट किए गए निमरुद जैसे प्राचीन शहरों में भी शिव पूजा के साक्ष्य मिले थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें