स्वादिष्ट मछली के समोसे, पिज़्जा, बर्गर की ये कहानी दिलचस्प है, मुंह में पानी आयेगा और मज़ा भी!

खारवा समुदाय महिलाएँ मछली के पिज्जा, चीज़ बॉल्स, समोसे, बर्गर, सैंडविच, कटलेट, अचार, चटनी, और अन्य रेडी-टू-कुक मछली भोजन सहित एक दर्जन से अधिक उत्पाद बनाती और बेचती है

आपको अपने आसपास तरह तरह की चीजे खाने पीने को मिल जाती है और ये सब अलग अलग जगह से आई हुई है। हम जब चाहे तब किसी खास जगह की खास डिश का आनंद उठा सकते है और यही इस देश की खूबसूरती है कि यहाँ वेरावल के तट से निकल कर मछली के समोसे, बर्गर और चटनी की सुगंध हिमालय के घरों तक पहुँच जाती है। जी हाँ जल्द ही, आपको कश्मीर के स्टोर में वेरावल की प्रसिद्ध मछली के समोसे, बर्गर और चटनी मिलने की संभावना है।
आपको बता दें कि हाल ही में शेर-ए-कश्मीर यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चरल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी के छात्रों और संकाय सदस्यों की एक टीम ने सहकारी समिति सागर मंथन माछिमार उत्थान मंडल की लगभग 300 महिलाओं द्वारा लिखी गई सफलता की कहानी के बारे में जानने के बाद वेरावल का दौरा किया। खारवा समुदाय की ये महिलाएँ मछली के पिज्जा, चीज़ बॉल्स, समोसे, बर्गर, सैंडविच, कटलेट, अचार, चटनी, और अन्य रेडी-टू-कुक मछली भोजन सहित एक दर्जन से अधिक उत्पाद बनाती और बेचती रही हैं। इस दौरे के बाद सहकारी समिति और वर्सिटी ने कश्मीर में मेड इन वेरावल ’मछली उत्पादों को बेचने का फैसला किया है। इसके साथ साथ वेरावल की महिलाएं वहां के लोगों के साथ अपने फार्मूले को भी साझा करेंगी ताकि कश्मीर में मीठे पानी वाली मछलियों से वैसा ही व्यंजन बनाया जा सके। 
आपको बता दें कि शेर-ए-कश्मीर यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चरल साइंसेज एंड टेक्नोलॉजी के जल विभाग के सहायक प्रोफेसर-सह-वैज्ञानिक फैसल राशिद ने कहा, “हम इन महिलाओं द्वारा किए गए काम से बहुत प्रभावित हैं। हम कश्मीर में ऐसा ही स्टोर स्थापित करना चाहते हैं। हम श्रीनगर से शुरुआत करेंगे और  बाद में अनंतनाग और बारामूला जैसे अन्य जिलों में विस्तार करेंगे।” आगे उन्होंने कहा, "इस तरह के मूल्य वर्धित मछली उत्पादों को बनाना सीखना कश्मीर में स्थानीय लोगों के लिए रोजगार पैदा करने में मदद करेगा। साथ ही विश्वविद्यालय से पास होने वाले छात्रों को राज्य के विभिन्न हिस्सों में मछली उत्पादों के भंडार खोलने में मदद मिलेगी। साथ ही राज्य के पर्यटन स्थलों पर हमारे छात्र इन उत्पादों को बेच सकते हैं। ”
सहकारी समिति के अध्यक्ष शैलेश सुयानी ने कहा, “हम सूप पाउडर, चीज़ बॉल्स, रेडी-टू-कुक उत्पाद जैसे समोसे, नूडल्स और पापड़ सीधे बिक्री के लिए कश्मीर भेज सकते हैं। हम अन्य उत्पादों के लिए रेसिपी भी साझा कर सकते हैं। इससे हमारी महिलाओं को अधिक आय और सम्मान मिलेगा।”

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें