कोरोना के इलाज के दौरान ये लापरवाही म्युकल मायकोसिस का कारण बन सकती है

प्रतिकात्मक तस्वीर (Pixabay.com)

कोरोना संक्रमित लोगों को खास ख्याल रखने की आवश्यकता हैं।

कोरोना महामारी से जूझ रहे देश में एक और खतरा सामने आ रहा है। दिल्ली और गुजरात में कोरोना संक्रमण को मात देने वाले लोगों को ब्लैक फंगस यानी काली फफूंद का अटैक देखने को मिल रहा है। गुजरात के कई शहरों में इसके कारण होने वाली मौतों की संख्या बढ़ रही है। यह बीमारी अहमदाबाद, राजकोट, वडोदरा, सूरत और मोरबी सहित जिलों में फैल गई है। गुजरात के सूरत शहर में इस बीमारी के बीते 15 दिनों में 40 से ज्या दा मामले सामने आए हैं। कई मरीजों की आंखें निकालनी पड़ी हैं तो कई मरीजों की तो इस बीमारी के कारण जान भी चली गई है। इस बीमारी से महाराष्ट्र में कई मौतें हो चुकी हैं।
जानकारी के अनुसार ये बीमारी कोरोना संक्रमित लोगों में अधिक देखा जा रहा हैं। ऐसे में वर्तमान में कोरोना संक्रमित लोगों को खास ख्याल रखने की आवश्यकता हैं। हालांकि ये बीमारी संक्रमण से नहीं फैलता ऐसे में पूरी सावधानी रखी जाए तो इससे आराम से बचा जा सकता हैं। घर पर आइसोलेटेड लोगों को खास ध्यान रखना हैं कि ऑक्सीजन के साधनों का उचित स्टेरीलाइज होना आवश्यक हैं वरना संक्रमण का जोखिम बना रखता हैं।
गौरतलब हैं कि कम प्रतिरोधक क्षमता और बड़ी बीमारी वाले मरीजों में इस बीमारी के फैलने का खतरा अधिक होता है। फिलहाल नाक से लेकर दिमाग तक इसका अधिक असर दिखा है। यह काफी घातक होता है। यह शरीर की कोशिकाओंको मारता है। और कई अंगों को क्षतिग्रस्त कर देता है। यहां तक की इससे मरीजों की जान तक चली जाती है। इससे आंखों की रोशनी भी चली जाती है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें