दुनियाभर की आबादी हुई 8 अरब के पार

यूएन की हालिया रिपोर्ट में सामने आई जानकारी

संयुक्त राष्ट्र की हालिया रिपोर्ट के अनुसार आज यानी मंगलवार को दुनिया की आबादी 8 अरब के पार हो गई। इसमें सबसे ज्यादा योगदान एशियाई देशों भारत और चीन का है। भारत और चीन दुनिया की सबसे ज्यादा आबादी वाले देश हैं। इस रिपोर्ट आगे यह भी बताया गया है कि 2030 तक वैश्विक जनसंख्या करीब 8.5 अरब, 2050 तक 9.7 अरब और 2100 तक 10.4 अरब तक पहुंच सकती है। इतना ही नहीं भारत की आबादी अगले साल 2023 तक चीन को पीछे छोड़ देगी। लगातार बढ़ती जनसंख्या और कम होते संसाधनों के बीच यूएन की यह रिपोर्ट काफी महत्वपूर्ण है। 

1950 के बाद से सबसे धीमी जनसंख्या वृद्धि दर 


आपको बता दें कि सोमवार को जारी वार्षिक विश्व जनसंख्या संभावना रिपोर्ट में एक बात जो अहम है वो ये कि वैश्विक जनसंख्या 1950 के बाद से अपनी सबसे धीमी दर से बढ़ रही है। वर्तमान जनसंख्या वृद्धि दर  2020 में एक प्रतिशत से भी कम हो गई थी।  वहीं रिपोर्ट में बताया गया कि 2050 तक अनुमानित जनसंख्या वृद्धि का अधिकांश हिस्सा जिन आठ देशों में होगा उनमें कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, मिस्र, इथियोपिया, भारत, नाइजीरिया, पाकिस्तान, फिलीपींस और तंजानिया शामिल हैं।

महज इतने साल में बढ़ी एक अरब जनसंख्या


आपको बता दें कि यूएन की ताजारिपोर्ट के अनुसार, साल 2010 में वैश्विक आबादी 7 अरब थी और 2022 में ये 8 अरब पहुंच चुकी है। ऐसे में एक अरब की जनसंख्या बढ़ने में मात्र 12 साल लगे। जनसंख्या बढ़ने की ये रफ्तार बेहद चिंताजनक है। हालांकि जनसंख्या वृद्धि दर के कम होने से ऐसा अनुमान है कि आबादी को 9 अरब तक पहुंचने में 15 साल और लग जाएंगे यानी 2037 तक दुनिया की आबादी 9 अरब हो जाएगी।

2050 तक बढ़ेगी औसत उम्र


जनसंख्या वृद्धि आंशिक रूप से मृत्यु दर में गिरावट के कारण होती है। विश्व स्तर पर, 2019 में औसत उम्र 72.8 वर्ष थी। 1990 के बाद से लगभग 9 वर्षों की औसत उम्र में वृद्धि हुई। मृत्यु दर में और कमी के परिणामस्वरूप 2050 में वैश्विक स्तर पर औसत उम्र लगभग 77.2 वर्षों होने का अनुमान है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें