घर वालों ने कर दिया था अंतिम संस्कार, 15 दिन बाद घर लौटी महिला

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit : Pixabay.com)

शव को पहचानने के दौरान हुई गलती तो किया किसी अन्य शव का अंतिम संस्कार

यदि कोई व्यक्ति जिसे आपने मृत मान लिया हो और कुछ ही दिन बाद वह आपके सामने आ कर खड़ा हो जाये तो। कुछ ऐसा ही हुआ आंध्रप्रदेश के कृष्णा जिले में जहां एक 75 साल की महिला जिसे परिवार वालों ने मृत मानकर उसका अंतिम संस्कार कर दिया, 15 दिनों के बाद जिंदा अपने घर लौट आई। इस तरह 15 दिनों के बाद महिला के घर लौटने से खुद महिला के घर वाले भी हैरान रह गए। 
विस्तृत जानकारी के अनुसार, कुछ ही समय पहले गिरिजम्मा नामक इस बुजुर्ग महिला को कोरोना संक्रमण के चलते अस्पताल में भर्ती किया गया था। इसके बाद इलाज के दौरान घरवालों ने यह सूचना दी की उनकी मौत हो गई है। जिसके बाद परिवार वाले मुर्दाघर से एक लाश को गिरिजम्मा का शव समजकर उसका अंतिम संस्कार कर दिया। हालांकि अंतिम संस्कार के 15 दिन के बाद गिरिजम्मा घर पहुंची। महिला के घर आते ही सभी लोग हैरान रह गए। 
गिरिजम्मा के भतीजे नागु ने बताया कि डॉक्टरों ने उन्हें बताया की उनके परिजन की मौत हो गई है और उन्हें मुर्दाघर में शव तलाश करने कहा। इसके बाद उनके चाचा ने चाची का शव तलाश किया तो उन्हें चाची के शव जैसा ही एक शव दिखा। जिसके चलते उन्होंने शव को ले जाकर उसका अंतिम संस्कार कर दिया। बता दे कि गिरिजाअम्मा के बेटे रमेश कि भी 23 मई को कोरोना के कारण मृत्यु हो गई थी। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें