आईआईटी हैदराबाद ने ढूँढी ब्लैक फंगस की सबसे सस्ती दवा, कीमत मात्र 200 रुपए

प्रतिकात्मक तस्वीर

60 मिलीग्राम दवा से किया जा सकेगा ब्लैक फंगस, क्लीनिकल ट्रायल की मांगी अनुमति

देश भर में इस समय कोरोना के साथ-साथ काले फंगस का प्रकोप देखने रहा है। कोरोना काल में यह बीमारी अब तक कई लोगों की जान ले चुकी है। बता दे की ब्लैक फंगस का इलाज बहुत महंगा है और इसके अलावा इलाज के जरूरी इंजेक्शन भी काफी मुश्किल से मिलता है। इन सभी समस्याओं का निराकरण लाते हुये IIT हैदराबाद के शोधकर्ताओं ने एक ऐसी दवा ढूंढ निकली है, जो ब्लैक फंगस का इलाज कर सकेगी और इसकी कीमत भी अधिक नहीं है। 
आईआईटी हैदराबाद के शोधकर्ताओं ने ब्लैक फंगस एक मरीजों के लिए ऐसी दवा का इजात किया है जो मुंह से दी जा सकेगी। इस रिसर्च के पीछे प्रोफेसर सप्तर्षि मजूमदार, डॉ. चंद्रशेखर शर्मा और उनके पीएचडी स्कॉलर मृणालिनी गेधाने और आनंदिता लाहा पिछले दो साल से काम कर रहे थे। अपनी दो साल की रिसर्च के बाद रिसर्चर्स को इस बात पर पूरा विश्वास है की इस दवा का इस्तेमाल बड़े स्तर पर किया जा सकेगा। 
बता दे की इस 60 मिलीग्राम के टेबलेट की कीमत मात्र 200 रुपए है। संस्था ने कहा, वर्तमान में देश में ब्लैक और अन्य प्रकार के फंगस के संक्रमण से परेशान है। जिसके लिए इस्तेमाल किए जाने वाले इंजेक्शन काफी महंगे है। जिसके चलते जल्द से जल्द इस दवा के क्लीनिकल ट्रायल को अनुमति देनी चाहिए। जिससे की जल्द ही लोगों के लिए यह दवा उपलब्ध करवाई जा सके। डॉ शर्मा ने कहा की यह तकनीक बौद्धिक संपदा अधिकारों से मुक्त है, ताकि इसे व्यावसायिक स्तर पर उत्पादित किया जा सके और जनता के लिए उचित और आसानी से उपलब्ध हो।"

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें