सूरत : नदी में कूदने के इरादे से युवक मकाईपुल की ग्रिल पर चढ़ा

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

लोकडाउन के कारण खराब हो चुकी थी आर्थिक स्थिति

कोरोना के कारण खराब आर्थिक स्थिति के कारण कई लोगों ने आत्महत्या कर ली थी। कुछ ऐसी ही एक घटना में सूरत के वाडीफलिया के युवक ने आत्महत्या करने की कोशिश की थी। इस लिए वह मकाईपुल पर पहुँच गया था और लोहे की ग्रिल पर चढ़ गया था। हालांकि युवक नदी में कूदे उसके पहले ही रांदेर पुलिस के दो बाईक सवार कर्मचारीयों ने उसकी जान बचाई थी। 
सुबह 11 बजे के आसपास वाडी फलिया इलाके में रहने वाले और एक पुत्री के पिता जरी के उद्योग से जुड़े है। एक साल पहले ही उन्हें पेट में परु हो गए थे। जिसके चलते उनका ऑपरेशन करने की नौबत आई थी। उस समय मित्र भरत ने अपनी बचत के एक लाख रुपये दिये थे। पर साल 2020 में लोकडाउन की वजह से वह भरत के पैसे लौटा नहीं पाया था। वहीं दूसरी और भरत का धीरज भी अब जवाब देने लगा था। इस तरह युवक पर फिर से आर्थिक संकट आ गया था। जिसके चलते उसने आत्महत्या करने का निर्णय लिया। 
युवक आत्महत्या करने के लिए मकाईपुल पर पहुंचा। पर सद्भाग्य से हितेश नाम के एक बाईक सवार ने उसकी हरकतों को भाँप लिया था और उसे बचाने का प्रयास करते हुये पुलिस को संपर्क किया था। हितेश ने काफी मशक्कत के बाद युवक ने उसे ग्रिल पर से नीचे उतारा था और इतने में ही पुलिस भी वहाँ आ पहुंची थी। कॉल आने के मात्र 6 मिनट में ही रांदेर पुलिस की पीसीआर वहाँ पहुंची थी और युवक की काउनसेलिंग की थी। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें