सूरत : तापी जिले में सखी वन स्टॉप सेंटर एवं 181 अभयम ने पेश किया टीम वर्क का उत्तम उदाहरण

सखी वन स्टाप सेन्टर की प्रतीकारात्मक तस्वीर

भूली-बिसरी 75 साल की वृद्धा को उसके परिवार तक पहुंचाया

 तापी की 181 अभयम टीम और सखी वन स्टॉप सेंटर का काम हमेशा से ही सराहनीय रहा है। महिला एवं बाल विभाग तापी से संबद्ध सखी वन स्टॉप सेंटर और अभयम ने टीम वर्क का बेहतरीन उदाहरण पेश करते हुए भूली-बिसरी 75 साल की वृद्धा को  उसके परिवार तक सुरक्षित पहुंचाया है।  तापी जिले की 181 महिला अभयम की टीम ने लापता महिला को सखी वन स्टॉप सेंटर पहुंचाया। जहां सिर्फ काउंसलिंग करने पर महिला का मात्र नाम  ही जानने को मिल पाया। लेकिन सखी वन स्टॉप सेंटर ने हार नहीं मानी और उनके परिवार, रिश्तेदारों और गांव को खोजने के लिए अभियान चलाया।  जिसके लिए गांव की महिला ने आसपास के गांव की सरपंच, आशावर्कर और आंगनबाडी कार्यकर्ता बहनों से संपर्क कर वृद्धा की फोटो वाट्सएप के जरिए भेजी और विभिन्न गांवों में जांच की।  अंत में महिला के परिवार के बारे में जानकारी मिली और वृद्धा का उसके परिवार से सुखद मिलन हुआ।
परिवार ने भूली-बिसरी महिला को सकुशल घर पहुंचाने के लिए सखी वन स्टॉप सेंटर का आभार जताया। जिस तरह से सखी वन स्टॉप ने महिला और उसके परिवार को टीम वर्क की बेहतरीन मिसाल पेश की है वह काबिले तारीफ है। सखी वन स्टॉप सेंटर महिलाओं को आश्रय के साथ-साथ उपचार और परामर्श जैसी सुविधाएं प्रदान करता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें