सूरत : अंगदाता रंजनाबेन की स्मृति में डाक विभाग ने स्टेम्प टिकट जारी किया

डोनेट लाईफ संस्था के माध्यम से अंगदाता स्व. रंजनबेन का डाक टिकट बनाया

अंगदाता रंजबेन की प्रार्थनासभा के दौरान उनकी स्मृति में डोनेट लाईफ संस्था ने डाक विभाग के सहयोग से स्टेम्प टिकट बनाकर परिवार को सुप्रत किया

डाक विभाग का "माई स्टांप" किसी ओर्गन डोनर की फोटो के साथ परिवार को दिया 
डोनेट लाइफ द्वारा देश में पहली बार अंग दान करने वाले व्यक्ति की स्मृति में उनकी तस्वीर के साथ डाक विभाग की "माई स्टैम्प" को  देकर अंगदाताओं को सम्मानित करने के लिए एक नई पहल शुरू की।
30 सितंबर को वलसाड में एक सड़क दुर्घटना में घायल योग शिक्षिका स्वर्गीय रंजनबेन प्रवीणभाई चावड़ा (उम्र 40 ) को 2 अक्टूबर को एप्पल अस्पताल में डॉक्टरों ने ब्रेन डेड घोषित कर दिया था। रंजनबेन की किडनी, लीवर और आंखें उनके परिवार ने डोनेट लाइफ संस्था के जरिए दान की थीं। दान किए गए लीवर को सूरत के किरण अस्पताल में शहर के जाने-माने हीरा उद्योगपति और सामाजिक कार्यकर्ता गोविंदभाई ढोलकिया को ट्रांसप्लांट किया गया। 
अंगदाता के परिवारजनों को डोनेट लाईफ संस्था ने डाक टिकट सुप्रत किया
सूरत शहर में लीवर ट्रांसप्लांट का यह पहला मामला था। 6 अक्टूबर को वलसाड में अंगदानकर्ता रंजनबेन की प्रार्थना सभा हुई। डोनेट लाइफ के संस्थापक और अध्यक्ष नीलेश मंडलेवाला और डोनेट लाइफ की टीम ने रंजनबेन को श्रद्धांजलि दी और उनके परिवार को अंगदान करने और पांच व्यक्तियों को पुनर्जीवित करने के निर्णय के लिए बधाई दी।
प्रार्थना सभा में डाक विभाग की अंगदाता रंजनबेन की तस्वीर के साथ "माई स्टैम्प" उनके परिवार को उनकी स्मृति में दिया गया। साथ ही परिवार के सदस्यों को अंगदान में सहयोग के लिए प्रशस्ति पत्र दिए गए। देश में ऐसा पहली बार हुआ है कि किसी डाक विभाग का "माई स्टांप" किसी ओर्गन डोनर की फोटो के साथ परिवार के किसी सदस्य को दिया गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें