सूरत : त्यौहारी व्यंजन बनाकर कमाई कर रहीं गृहिणियां, परिवार के लिए अर्थोपार्जन में करती है मदद

दिवाली के समय मात्र 15 दिनों में ही हो जाती है 25 से 30 हजार की कमाई

आज के इस आधुनिक युग में जहां व्यक्ति को खुद के खाने के लिए समय नहीं है। हर व्यक्ति पूरा दिन काम के चक्कर में बाहर ही फंसा रह जाता है। ऐसे में सूरत में कई महिलाएं ऐसी है जो बिना घर के बाहर गए ही आर्थिक उपार्जन की नई तरकीबें ढूंढ निकाल रही है। घर के कामकाज के साथ ही घर के अर्थोपार्जन में खुद का सहयोग देते हुये कई महिलाएं घर में ही विभिन्न त्यौहारी व्यंजन बनाकर आय अर्जित कर रही है।
सूरत की फास्ट लाइफ में कई लोगों के पास घर पर खुद के लिए विभिन्न व्यंजन बनाने का समय नहीं है। ऐसे में अन्य महिलाओं के लिए इससे आर्थिक उपार्जन करने में सहायता मिल रही है। दिवाली में अब जहां कुछ ही दिन बाकी है, ऐसे में कई महिलाएं अन्य लोगों के लिए दिवाली के दौरान घर पर नास्ता और अन्य व्यंजन बनाकर रखती है। इस बारे में बात करते हुये अलकाबेन देसाई नामक एक महिला का कहना है दिवाली के 15 दिनों पहले इस तरह से वह अन्य लोगों के नास्ता बनाकर 25 से 30 हजार रुपए तक बना लेते है। इसके लिए वह अपनी बेटी की सहायता लेते है। 
अलकाबेन कहती है की आज की तेज जिंदगी में लोगों के पास अपने खुद के लिए समय नहीं है। ऐसे में घर पर नास्ता बनाकर रखने का तो किसी के पास भी समय नहीं है। वह और उनकी बेटी मिलकर कई तरह की चीजें बनाकर विभिन्न संस्थाओं को भेजते है, जबकि कई लोग खुद ही घर पर आकर चीजें खरीदकर ले जाते है।
अन्य एक गृहिणी इस बारे में कहती है की आज के इस महंगाई के समय में घर का खर्च चलाना काफी तकलीफदेह हो जाता है। ऐसे में घर का खर्च निकालने के लिए वह इस तरह से लोगों को नास्ता बनाकर देते है, जिससे उन्हें भी आर्थिक उपार्जन होता है। इस तरह महिलाएं खुद ही अपने पैरों पर खड़ा होकर महिला सशक्तिकरण का अद्भुत उदाहरण पेश कर रही है। जो कई लोगों के लिए उदाहरण बन रहा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें