सूरतः वेतन बढ़ोतरी की मांग को लेकर डॉक्टर्स अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

वेतन बढ़ोतरी की मांग के साथ हड़ताल पर डॉक्टर

पुराने चिकित्सा अधिकारियों ने अनिश्चित काल के लिए हड़ताल पर जाने का फैसला किया

नये डॉक्टरों को अधिक वेतन देने पर पुराने चिकित्सक कर रहे विरोध
सूरत कॉरपोरेशन में पुराने ठेके पर लिए गए डॉक्टरों के साथ अन्याय की संभावना लग रही है। पुराने अनुबंधित डॉक्टरों को 60,000 रुपये का भुगतान किया जा रहा है। जबकि नए कॉन्ट्रैक्ट पर लिये गये डॉक्टरों को 1,25,000 रुपये दिए जा रहे हैं। जिसके कारण पुराने डॉक्टरों के साथ अन्याय की भावना व्याप्त है। पिछले कुछ दिनों से पुराने अनुबंधित डॉक्टरों ने नगर आयुक्त और मुख्यमंत्री को लिखित में अपनी भावनाओं से अवगत कराया, लेकिन उनके सवाल का समाधान नहीं होने पर वे गुरुवार से अनिश्चित काल के लिए हड़ताल पर चले गए।
सूरत कॉरपोरेशन के पुराने अनुबंध पर ड्यूटी करने वाला डॉक्टर गुरुवार से काम से दूर रहेगा।  समरस कोविड सेन्टर में ड्यूटी पर कार्यरत एक साथ डॉक्टरों के हड़ताल पर जाने से कोरोना संक्रमित मरीजों का इलाज कैसे किया जाएगा यह एक बड़ा सवाल उभर कर सामने आ रहा है।  स्मीमरे डेडिकेटेड कोविड हेल्थ सेंटर में 30 से अधिक डॉक्टर हड़ताल पर हैं। जिसमें से कुछ संजीवनी  रथ और स्वास्थ्य केंद्रों में ड्यूटी पर थे। डॉक्टरों के हड़ताल से सभी कार्यों  पर इसका प्रभाव पड़ेगा। एक तरफ, समरस कोविड केयर सेन्टर  के साथ-साथ स्मीमेर डेडिकेटेड कोविड केंद्र में कोरोना संक्रमित रोगियों की संख्या बढ़ रही है। उसी समय, डॉक्टरों द्वारा हड़ताल पर जाने से चिकित्सा सेवाओं पर प्रभाव पड़ रहा है।
पुराने अनुबंध के चिकित्सा अधिकारियों ने बुधवार को पालिका के स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ चर्चा की थी, लेकिन कोई उचित समाधान नहीं आने पर गुरुवार से अनिश्चित कालीन हड़ताल पर उतर गये हैं। मुख्यमंत्री द्वारा घोषणा की गई थी कि चिकित्सा अधिकारियों को 1,25,000 रुपये का भुगतान किया जाएगा। यदि नए काम करने वाले डॉक्टरों को इतना भुगतान किया जा रहा है तो पुराने चिकित्सकों को क्यों  नहीं किया जा रहा है।
डॉ. पुर्वेश ने कहा कि पुराने अनुबंध चिकित्सा अधिकारियों को राज्य सरकार द्वारा जारी परिपत्र के अनुसार भुगतान नहीं किया गया था। कोविड के लिए पुराने चिकित्सा अधिकारी दिन-रात ड्यूटी पर हैं। तो हमारे साथ भेदभाव क्यों किया जा रहा है। मनपा आयुक्त और उप स्वास्थ्य आयुक्त को बार-बार प्रतिनिधित्व देने के बावजूद कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया गया है। अगर हमारी मांग नहीं मानी गई तो हम इस्तीफा देने के लिए भी विचार कर रहे हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें