सूरतः शत प्रतिशत बायपेप पर रहने के बावजूद 40 दिनों के उपचार के बाद कोरोना को हराया

40 दिनों के उपचार के बाद कोरोना को हराया

सिविल को 34 दिनों के उपचार में 13 दिनों तक आईसीयू में वेंटिलेटर पर रखा गया था

कोरोना मुक्त होने के बाद तीन बेटियों के पिता और परिवार ने खुशी जाहिर की
पिछले एक साल के कोरोना अवधि के दौरान नई सिविल अस्पताल में कोरोना ग्रस्त रोगियों के उपचार में लगे चिकित्सकों, नर्सिंग स्टाफ, पैरामेडिकल स्टाफ ने कई क्रिटिकल रोगियों को कोरोना मुक्त करने में बड़ा योगदान दिया है। जिसमें एक और उपलब्धि जुड़ गया है। अडाजण के 43 वर्षीय विजयभाई केशवभाई वरिया को 40 दिनों के लंबे और कठिन उपचार के बाद नई सिविल डॉक्टरों को स्वस्थ करने में सफलता मिली है। विजयभाई वीर नर्मद विश्वविद्यालय के परीक्षा विभाग में क्लर्क के रूप में काम करते हैं। उनका स्वस्थ होना किसी चमत्कार से कम नहीं है।  13 दिनों तक आईसीयू में वेंटिलेटर पर रहे और मजबूत इरादों और सिविल डॉक्टरों की कड़ी मेहनत के परिणामस्वरूप उन्होंने अंत में कोरोना के खिलाफ एक लंबी लड़ाई लड़ी और कोरोना को हराने के बाद स्वस्थ होकर घर लौट आए। परिवार के साथ पुनः मिलन होने से वरिया परिवार से ज्यादा खुशी नई सविल अस्पताल के स्टाफ को थी।  
अडाजण में संगम टाउनशिप के निवासी विजयभाई ने 25 मार्च को कोरोना पॉजीटिव आने पर एक निजी अस्पताल में पांच दिनों तक उपचार लिया था। उस समय  उन्हें 40 प्रतिशत फेफड़ों का संक्रमण था। उन्हें 1 अप्रैल को नई सिविल अस्पताल में रेफर किया गया था। जहां उन्हें 34 दिनों का उपचार मिला, उन्होंने कुल 40 दिनों तक कोरोना का मुकाबला किया और अंत में कोरोना को हराया। 05 मई को छुट्टी दी गई थी और  परिवार के साथ पुनर्मिलन संभव हो पाया है। 
नई सिविल अस्पताल के मेडिसिन विभाग के प्रमुख और वरिष्ठ प्रोफेसर डॉ. के.एन. भट्ट ने जानकारी देते हुए कहा कि विजयभाई को 1 अप्रैल को सिविल अस्पताल में बुखार और सांस लेने में कठिनाई के साथ भर्ती कराया गया था। RTPCR की रिपोर्ट जांच में सकारात्मक निकली। एचआरसीटी में, 85 से 80 प्रतिशत फेफड़ों में कोरोना संक्रमण पाया गया। भर्ती होने के दौरान हालत बेहद गंभीर थी, और जैसे ही ऑक्सीजन का स्तर गिरा, उन्होंने तुरंत आईसीयू में बायपोप पर 100 प्रतिशत ऑक्सीजन पर इलाज शुरू कर दिया। विजयभाई को 13 दिनों तक वेंटिलेटर पर भी रखा गया था क्योंकि उन्हें सांस लेने में अधिक कठिनाई हो रही थी। आईसीएमआर और केंद्र सरकार के दिशानिर्देश के अनुसार आईसीयू में उपचार के दौरान रेमडेसिविर इंजेक्शन और प्लाज्मा उपचार  भी दी गई थी। धीरे-धीरे उपचार के बाद तबियत में सुधार आने पर बाहरी ऑक्सीजन की मात्रा घटाया गया था। लंबे समय तक लेकिन उचित उपचार के कारण, वह धीरे-धीरे एक सामान्य वायु कक्ष में स्थानांतरित हो गया। 34 दिनों के संघर्षपूर्ण उपचार के बाद अंत में सिविल प्रशासन खुश है कि वह कोरोना मुक्त हुआ है। चिकित्सा कर्मचारी हमेशा उसे खुश करते हुए कहते हैं, "तुम जल्दी ठीक हो जाओगे और घर लौट जाओगे।"
विजयभाई तीन बेटियों के पिता हैं। उनकी पत्नी और तीन बेटियों के चेहरे पर मुस्कान लौट आई है। विजयभाई का परिवार उन्हें स्वस्थ हुए देख खुशी के आंसू नहीं रोक पाया। भावुक भावनाओं को व्यक्त करते हुए, परिवार कहता है  1 अप्रैल हमारे लिए संकट का दिन था। लगभग 90 प्रतिशत  कोरोना संक्रमण होने से उनकी स्थिति गंभीर हो गई थी। ऐसे कठिन समय में सिविल डॉक्टर हमारा सहारा बने। ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टरों ने हर रोज वरिया परिवार को फोन कर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी देते थे। उनके आश्वासन ने उन्हें बहुत हिम्मत दी। कुल 40 दिनों के उपचार में  एक-एक  दिन हमारे लिए कठिन था, लेकिन  पति के कोरोना मुक्त होने की खुशी अवर्णनीय है। सिविल डॉक्टरों ने जीवनदान दी है।  हम जीवन भर उनके ऋणी रहेंगे।
कोरोना मुक्त विजयभाई आंखों में आंसू लेकर कहते हैं कि 'सिविल अस्पताल में बिताए 34 दिन कभी नहीं भूलेंगे। इस दौरान सिविल का कोविड वार्ड मेरा दूसरा घर बन गया। यहां के सभी कर्मचारियों ने मेरे साथ परिवार की तरह सेवा की है। एक समय मुझे किसी से बात करना भी पसंद नहीं था। मैं कब स्वस्थ होकर घर जाउंगा , स्वस्थ होउंगा कि नहीं मुझे यह भी नहीं पता था कि मैं कब ठीक हो पाऊंगा। परिवार के साथ वीडियो कॉल पर बात करना भी बहुत अच्छा लगता था। वह कहते हैं कि सिविल की उपचार से  मैं मौत के मुंह से बाहर आया हूं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें