स्कैम 1992 देखकर चढ़ा ऐसा बुखार की ब्रांच मैनेजर ने बैंक के ग्राहकों को ही लगाया चुना

प्रतिकात्मक तस्वीर

शेयरमार्केट में पैसे लगाने के लिए बैंक ग्राहकों के अकाउंट से निकाल लेता था अवैध तरीके से पैसे, एसएमएस भी कर दिये थे ब्लॉक

बिहार के ग्रामीण बैंक के एक मैनेजर को प्रतीक गांधी की वेब सीरीज़ स्कैम 1992 देखने के बाद शेयर ट्रेडिंग का ऐसा भूत चढ़ा की उसने अपने ब्रांच के सभी ग्राहकों के साथ ही चीटिंग करना शुरू कर दिया। बिहार के बक्सर जिले के आशा पडारी ब्रांच के मैनेजर रविशंकर कुमार ने अपनी सत्ता का दुरुपयोग करते हुये अपने ब्रांच के 120 से अधिक ग्राहकों को चुना लगाया था। 
विजिलंस द्वारा की गई जांच की प्राथमिक रिपोर्ट के अनुसार, ब्रांच मैनेजर ने 1 करोड़ रुपए से अधिक पैसों की धोखाधड़ी की है। हालांकि अभी भी जांच चालू है। ब्रांच मैनेजर को जानने वाले लोगों का कहना है की वह रातोरात ही पैसे वाला बन जाना चाहता था। इसलिए उसने शेयर बाजार में पैसे लगाए थे। हालांकि उसके पैसे डूबने लगे और वह नुकसानी में चला गया। अब रविशंकर के पास और पैसे नहीं थे। तो उसने बैंक के ग्राहकों के पैसे इस्तेमाल करने की सोची। जिसके लिए उसने 200 से अधिक अकाउंट धारकों के फर्जी चेक के माध्यम से उनके अकाउंट में से पैसे निकाल लिए थे। 
रविशंकर वेबसीरीज देखने के बाद से ही शेयरबाजार से काफी प्रभावित हो चुका था। जिसके चलते उसने ऐसा किया। पहले तो वह काफी छोटी-छोटी रकम बाजार में लगाता था। पर वह सारी रकम डूब गई थी। जिसके बाद उसने यह सब किया। रविशंकर के ऊपर 1 करोड़ से भी अधिक रकम की धोखाधड़ी करने का आरोप है। पिछले 4 महीनों से रविशंकर ने अपने ग्राहकों के पैसे शेयर मार्केट में लगाने के लिए यह घोटाला चलाया था। इस दौरान जब भी कोई पासबुक की एंट्री करवाने आता तो वह मशीन बंद है, कहकर उन्हें वापिस भेज देता था। 
इसके अलावा टेक्निकल सेक्शन की सहायता से उन्होंने पिछले तीन-चार महीनों से बैंक में होने वाले किसी भी ट्रांजेकशन के मैसेज जाने से भी रोक दिया था। रविशंकर ने ब्रांच के सभी कैमरा भी बंद करवा दिये थे, ताकि उसका घोटाला किसी के हाथ में ना आए। ब्रांच मैनेजर के तौर पर मिली अपनी सत्ता का गलत इस्तेमाल कर उसने ग्राहकों के पैसे अपनी पत्नी, पिता, संबंधी तथा अन्य रिशतेदारों के अकाउंट में जमा करवाए थे। पूरे मामले में पुलिस ने रविशंकर, उमेशसिंह और आरतीदेवी सहित पाँच लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज कर उन्हें हिरासत में लिया है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें