बुजुर्ग महिला की खराब हालत देखकर इस महिला ने दिया इलाज के लिए अपना टोकन

(Photo Credit : divyabhaskar.co.in)

टोकन देने के बाद विलुप्त हुई महिला, नहीं बताया अपना नाम

राज्य भर में कोरोना के कारण मरीजों की हालत काफी खराब होते जा रही है। अस्पताल में मरीजों के लिए बेड की कमी सभी के सामने आई हुई है। ऐसे में केंद्र सरकार की सहायता द्वारा अहमदाबाद के गुजरात यूनिवर्सिटी के कन्वेंशन हॉल में बनाई धन्वंतरी हॉस्पिटल भी मरीजों के लिए पर्याप्त साबित नहीं हो रही।  अस्पताल के बाहर मरीजों की काफी भीड़ को देखते हुये अस्पताल द्वारा टोकन सिस्टम खड़ी की गई है। 
डीआरडीओ की सहायता से बनाए गए धन्वंतरी हॉस्पिटल में मरीज को भर्ती करने के लिए मरीज के परिवार को सुबह 5:00 बजे से ही टोकन लेने के लिए लंबी-लंबी लाइन लगानी पड़ती है। ऐसे में एक परिवार जो की घर की बुजुर्ग महिला को ऑक्सीजन लेने में तकलीफ होने के कारण पिछले 3 दिन से बुजुर्ग महिला को अस्पताल में भर्ती करवाने के लिए यहां-वहां घूम रहा था धनवंतरी अस्पताल पहुंचा। जहां परिवार का एक सभ्य अस्पताल में टोकन लेने के लिए लाइन में खड़ा रहा, जबकि अन्य सदस्यों ने पुलिस को उन्हें अंदर जाने के लिए कहा।
हालांकि पुलिस ने उनको अंदर जाने नहीं दिया। इस दौरान बुजुर्ग महिला की स्थिति काफी बिगड़ती जा रही थी। काफी लंबे समय से लाइन में खड़ी एक महिला ने यह घटना देखी तो उससे परिवार की दुर्दशा देखी नहीं गई। महिला ने घंटो खड़े रहकर प्राप्त किया हुआ अपना टोकन बुजुर्ग महिला के परिवार को दे दिया और वहां से निकल गई। महिला ने बुजुर्ग महिला के परिवार को टोकन देने के बावजूद उनके साथ अपनी कोई भी डीटेल और अपना नाम तक नहीं बताया। 
कोरोना के इस समय में लोग जहां गरीबों की मजबूरी का फायदा उठाने से बाज नहीं आ रहे है। ऐसे में कुछ ऐसे लोगों की मानवता की सेवा ही लोगों के अंदर मानवता की खुशबू को हमेशा ताजी रखती है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें