एशियाई कुश्ती चैंपियनशिप में सरिता मोर, सुषमा ने जीता कांस्य

संगीता मोर

एशियन रेसलिंग चैंपियनशिप में भारत को फिर एक बार निराशा मिली है। भारत ने अब तक इस चैंपियनशिप में एक भी गोल्ड मेडल नहीं जीता है। पिछले साल की चैंपियन सरिता मोरे ने अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन नहीं कर पाई, लेकिन फिर भी उन्होंने एशिया कुश्ती चैंपियनशिप में कांस्य पदक जीतने में कामयाबी हासिल की। इसके अलावा सुषमा शौकिन को भी कांस्य पदक से संतोष करना पड़ा।
2021 विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक विजेता सरिता ने 59 किग्रा में दो हार के साथ शुरुआत की। इस भार वर्ग में पांच पहलवान प्रतिस्पर्धा कर रहे थे और सरिता शुरू में मंगोलिया की शुवदोर बतरजाओ (1-2) और जापान की सारा नतामी से हार गईं। इसके बाद उन्होंने अंतिम दो मैच जीतकर वापसी की। सरिता ने पहले उज्बेकिस्तान की दिलफुजा अंबेटोवा को हराया और फिर डायना कुमोवा पर 5-2 से जीत दर्ज की।
सरिता ने कहा, "मैं मंगोलियाई खिलाड़ी के खिलाफ जीत सकती थी लेकिन मेजबान टीम से होने के कारण उन्हें रेफरी का समर्थन प्राप्त हुआ। वह मेट से दूर जा रही थी लेकिन उसे कोई चेतावनी नहीं दी गई। जिससे उसे फायदा हुआ।  वह जापानी पहलवान के सामने भी हार सकती थी, हालांकि आज उनका दिन नहीं था। मैंने जैसा चाहा वैसा प्रदर्शन नहीं किया। शायद यह मौसम की वजह से है। क्योंकि यह शहर काफी ऊंचाई पर स्थित है। वह मेट पर सक्रिय नहीं हो सकी थी। इसके अलावा उनके मैचों के बीच कम समय था।
सुषमा ने 55 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक जीता। इस कैटेगरी में सिर्फ पांच पहलवान शामिल थे। सुषमा जापान की उमी इमाई से हार गईं लेकिन कजाकिस्तान की अल्टिन शगायेवा पर 5-0 से जीत के साथ वापसी की। बाद में उन्होंने उज्बेकिस्तान की सर्बीना ज़िनबाएवा को हराया। हालांकि सुषमा स्थानीय पहलवान ओटगोंजरगल से हार गईं। मनीषा 50 किग्रा वर्ग में कांस्य पदक की दौड़ में भी थीं, लेकिन पदक मैच में उज्बेकिस्तान की जैस्मीन इमाएवा से हार गईं। भारत इस चैंपियनशिप में अब तक सात कांस्य पदक जीत चुका है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें