रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया को बैंकर्स को तोहफा, साल में मिलेगी इतनी अप्रत्याशित छुट्टी

(Photo : IANS)

संवेदनशील बैंकर्स को हर साल कम से कम 10 दिन की सरप्राइज लीव

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने देशभर के बैंककर्मियों को एक बड़ी खुशखबरी देते हुए उनकी ख़ुशी के लिए एक अहम फैसला लिया है। दरअसल रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने अपने नए आदेश में बताया है कि कमर्शियल बैंक के अलावा रूरल डेवलपमेंट बैंक और को-ऑपरेटिव बैंकों संवेदनशील पदों पर काम करने वाले बैंकर्स को हर साल कम से कम 10 दिन की सरप्राइज लीव यानी बिना बताए छुट्टी लेनी की सुविधा मिलेगी।
रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के 2015 के परिपत्र के अनुसार ट्रेजरी ऑपरेशन, करेंसी चेस्ट, रिस्क मॉडलिंग, मॉडल वैलिडेशन जैसे सेक्शन में काम करने वाले बैंकर्सवे संवेदनशील पदाधिकारी माने जाते हैं। इस नियम के साथ ही संवेदनशील पदों को लेकर एक लिस्ट भी जारी की जाएगी जिन्हें हर साल 'Mandatory Leave' के तहत हर साल 10 दिनों की छुट्टी आकस्मिक दी जाएगी। इस नियम के अनुसार बैंकर्स को पूर्व सुचना के बिना छुट्टी दी जाएगी।
आपको बता दें कि आरबीआई ने ग्रामीण विकास बैंक और सहकारी बैंक समेत बैंकों को भेजी सूचना में विवेकपूर्ण जोखिम प्रबंधन उपाय के तहत अवकाश देने की नीति तैयार करने को कहा है। इसके लिए बैंकों और उनके निदेशक मंडल बोर्ड को एक नीति के अनुसार संवेदनशील पदों की सूची तैयार करने के लिए कहा गया है। बैंकों के निदेशक मंडल बोर्ड को इसकी समय समय पर समीक्षा भी करते रहना होगा। बैंकों को इस सूची बनाने के लिए रिजर्व बैंक ने 6 महीने का समय दिया है। इससे पहले रिजर्व बैंक ने 2015 में इस मामले को लेकर दिशा-निर्देश जारी किये थे। लेकिन उस समय दिनों की संख्या स्पष्ट नहीं की गयी थी।
आरबीआई के अनुसार इस अवकाश के दौरान कॉरपोरेट और आंतरिक ईमेल पर कार्यरत होना पड़ेगा लेकिन किसी भी प्रकार का भौतिक कार्य नहीं करना रहेगा। ऐसे कर्मचारियों को अवकाश के दिन किसी भी प्रकार के ऑनलाइन कार्य से भी नहीं जोड़ा जायेगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें