रक्षाबंधन : अपनी बहनों के बहुत करीब है ये भारतीय खिलाड़ी, हर समय एक दुसरे के लिए उपस्थित रहते है ये भाई-बहन

(Photo Credit : khabarchhe.com)

आज देश भर में रक्षाबंधन का पर्व मनाया जा रहा है। इस दिन हर बहन अपने भाई को याद करती है और हर भाई को अपनी बहन की जरूरत होती है। हमारे क्रिकेटर्स साल में लगभग 200 से 250 दिन क्रिकेट खेलते हैं, इसलिए स्वाभाविक है कि उन्हें अपनी बहनों से ज्यादा समय तक दूर रहना पड़ता है। लेकिन जब समय आता है तो वे अपनी बहनों की ज़रूरत में मदद कर रहे होते हैं। कुछ भारतीय क्रिकेटरों का अपनी बहन के साथ बहुत मजबूत रिश्ता है। चलिए ऐसे भारतीय क्रिकेटरके बारे में जानते है जो अपनी बहनों के साथ भावनाओं के अविभाज्य बंधन से बंधे हों।

महेन्द्र सिंह धोनी
भारत के पूर्व वनडे कप्तान महेंद्र सिंह धोनी अपनी बहन जयंती गुप्ता के काफी करीब हैं। धोनी के पिता पान सिंह धोनी कभी भी धोनी को क्रिकेटर नहीं बनाना चाहते थे। लेकिन जयंती के साथ-साथ धोनी की मां ने भी माही को उनके सपने को सच करने की ताकत दी। धोनी हमेशा अपनी सफलता का श्रेय इन दोनों को ही देते हैं। जयंती एक स्कूल में शिक्षिका है। वह हमेशा कहती है कि उसका भाई कभी भी ज्यादा कुछ नहीं करता। वह बहुत विनम्र हैं और उनके अपने सिद्धांत हैं। इसके अलावा माही भी काफी जिम्मेदार हैं। इसलिए जब झारखंड सरकार ने महेंद्र सिंह धोनी को पीएचडी देने का फैसला किया तो उन्होंने विनम्रता से इसे खारिज कर दिया क्योंकि उन्होंने अभी तक स्नातक भी नहीं किया है।

वीरेंद्र सहवाग
हमने अक्सर सुना है कि वीरेंद्र सहवाग हमेशा अपनी मां के करीब हैं, लेकिन वह अपनी बहन अंजू मेहरवाल के भी उतने ही करीब हैं। अंजू दिल्ली में एक स्कूल टीचर हैं और उनकी शादी रविंदर सिंह मेहरवाल से हुई है। 2012 के आईपीएल के दौरान, सहवाग ने दिल्ली नगर निगम चुनाव लड़ रही अपनी बहन के प्रचार के लिए एक या दो दिन की छुट्टी ली थी। अंजू ने वो चुनाव जीता भी था।

विराट कोहली
विराट कोहली अपनी बड़ी बहन भावना के काफी करीब हैं। उन्होंने हमेशा विराट कोहली का समर्थन किया है। खासकर 2006 में विराट के पिता की मौत के बाद भावना ने इस बात का खास ख्याल रखा कि विराट के करियर में कोई परेशानी न आए। इस प्रकार यह कहा जा सकता है कि ये दोनों भाई-बहन एक-दूसरे के लिए सबसे बड़ा सहारा बन गए हैं।

गौतम गंभीर
गौतम और उनकी बहन एकता भाई-बहनों के बजाय दोस्त के रूप में जाना जाना पसंद करते हैं। गौतम गंभीर ने हमेशा अपनी बहन को समझदार और मददगार माना है। जब गौतम गंभीर किसी समस्या से गुजर रहे होते हैं, तो वह एकता के पास जाते हैं और समाधान ढूंढते हैं। इन भाइयों और बहनों के बीच का रिश्ता कितना मजबूत होता है इसका पता तब चलता है कि गौतम ने एकता की शादी के लिए भारत और श्रीलंका के बीच टेस्ट सीरीज से विशेष छुट्टी ली और अपनी बहन की शादी में उपस्थित रहे। एकता को भी गौतम की बहन होने पर गर्व है।

भुवनेश्वर कुमार
उत्तर प्रदेश के इस तेज गेंदबाज ने हमेशा अपनी सफलता के लिए अपनी बड़ी बहन रेखा को जिम्मेदार ठहराया है। रेखा सिर्फ दस साल की उम्र से भुवनेश्वर को क्रिकेट खेलने के लिए प्रोत्साहित करती रही हैं। तेरह वर्षीय भुवनेश्वर को रेखा कोचिंग सेंटर ले गई। इतना ही नहीं रेखा ने भविष्य के लिए क्रिकेट के उपकरण खरीद कर उन्हें दे दिए। रेखा वर्तमान में शादीशुदा है और दिल्ली में रहती है, लेकिन वह भुवनेश्वर के साथ अपनी यादगार यादों को याद करती है और कहती है, "मुझे एहसास हुआ कि भुवनेश्वर के लिए क्रिकेट उसकी जिंदगी बनने वाला था। इसलिए मैं हमेशा उसके शिक्षकों के पास जाती और उन्हें बताता कि पढ़ाई बिल्कुल भी दबाव नहीं है। मैं हमेशा उसके साथ पढ़ाई के बारे में नहीं बल्कि उसकी कोचिंग के बारे में चर्चा करती। जब मेरे पिता का तबादला कर दिया गया था, इसलिए भुवनेश्वर में क्रिकेट कोचिंग बाधित न हो, यह सुनिश्चित करने की सारी जिम्मेदारी मेरी थी।”

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें