पंजाब : मुख्यमंत्री भगवंत मान ने भ्रष्टाचार में लिप्त अपने ही नेता को किया पद से बर्खास्त

राज्य में तनिक भी भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा : भगवंत मान

अरविंद केजरीवाल के भ्रष्टाचार विरोधी मॉडल के तहत पंजाब की भगवंत मान सरकार ने भ्रष्टाचार के खिलाफ एक्शन लिया है। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने भ्रष्टाचार के आरोप लगने के बाद अपने ही मंत्री को पद से बर्खास्त कर दिया है। भगवंत मान ने पंजाब के स्वास्थ्य मंत्री विजय सिंगला को भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते अपने मंत्रिमंडल से हटा दिया है। इसके बाद एंटी करप्शन ब्यूरो ने विजय सिंगला को गिरफ्तार कर लिया है।बता दें कि विजय सिंगला पर अधिकारियों से ठेके पर कमीशन मांगने के आरोप लगे हैं। विजय सिंगला अधिकारियों से ठेके पर एक पर्सेंट कमीशन की मांग कर रहे थे। इसके बाद शिकायत मिलने पर मुख्यमंत्री भगवंत मान ने विजय सिंगला को बर्खास्त कर दिया है। अपनी कार्रवाई के बाद पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने कहा कि राज्य में तनिक भी भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 'जनता ने बहुत उम्मीदों से आम आदमी पार्टी की सरकार बनाई है, उस उम्मीद पर खरा उतरना हमारा कर्तव्य है। ' उन्होंने आगे कहा, 'अरविंद केजरीवाल जी ने वचन लिया था कि भ्रष्टाचार के सिस्टम को जड़ से उखाड़ फेकेंगे, हम सब उनके सिपाही हैं। एक पर्सेंट भ्रष्टाचार की भी कोई जगह नहीं है।

गौरतलब है कि देश के इतिहास में दूसरी बार एक मुख्यमंत्री ने सीधे अपने मंत्री पर कार्यवाही की है। इससे पहले साल 2015 में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने अपने एक मंत्री को भ्रष्टाचार के मामले में बर्खास्त किया था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें