अब संभव हो सकेगी आलीशान स्पेसशिप में अंतरिक्ष की सैर!

फ्लोरिडा स्थित कंपनी स्पेस पर्सपेक्टिव ने अपने गुब्बारा आधारित अंतरिक्षयान से पर्दा हटा दिया है। उन्होंने इसे सार्वजनिक किया। कंपनी ने कहा कि अब से दो साल बाद लोग उनके इस यान में बैठकर स्ट्रैटोस्फेयर के ऊपर तक यात्रा कर सकेंगे

धीरे-धीरे तकनीक ने हमारे जीवन में अपने पैर पसार लिए हैं। आज के समय मानव कुछ भी असंभव नहीं है। आज के समय मनुष्य घूमने और मनोरंजन के लिए पहाड़ पर्वत समुद्र नदी ऐसी जगह पर जाता है पर अगर तकनीक अपने साथ दे और सब कुछ सही रहा तो जल्दी हम अंतरिक्ष में भी अब आलीशान यात्रा करना संभव होगा। स्पेस पर्सपेक्टिव ने इस यात्रा की तैयारी कर ली है। इस यान का नाम है स्पेसशिप नेपच्यून। इसके अंदर बड़ी-बड़ी कांच की खिड़कियां होंगी, जिनसे आपको बाहर का नजारा बेहद खूबसूरत दिखाई देगा। कंपनी के को-सीईओ टेबर मैक्कुलम ने कहा कि यह यान बेहद सिंपल, सुरक्षित, लग्जरीयुक्त होगा. इसका सिंपल डिजाइन और ऑटोमेशन सिस्टम इसे बेहद सुरक्षित बनाता है। इसके केबिन में रेस्ट रूम होगा. टेलिस्कोप होगा. बड़े इंटरैक्टिव स्क्रीन्स और सोफे लगे होंगे. इनके अलावा कई अन्य तरह की सामान्य जरूरतों की सुविधाएं भी दी जाएंगी। यह आकर्षक दिखने वाला कैप्सूल पृथ्वी से 20 मील ऊपर पूरे ग्रह का मनोरम दृश्य पेश करेगा और वह भी शानदार सुविधाओं के साथ। उसके लिए आपको ज्यादा नहीं बल्कि 1,25,000 डॉलर प्रति टिकट खर्च करने होंगे। फ्लाइट ब्लू जेफ बेजोस की ब्लू ओरिजिन और रिचर्ड ब्रैनसन की ओरिजिन गेलेक्टिक के बिल्कुल विपरीत होगी।
आपको बता दें कि फ्लोरिडा स्थित कंपनी स्पेस पर्सपेक्टिव ने अपने गुब्बारा आधारित अंतरिक्षयान से पर्दा हटा दिया है। उन्होंने इसे सार्वजनिक किया। कंपनी ने कहा कि अब से दो साल बाद लोग उनके इस यान में बैठकर स्ट्रैटोस्फेयर के ऊपर तक यात्रा कर पाएंगे। अंतरिक्ष-सक्रिय पोर्टल द्वारा बनाई गई एक गोलाकार फली ग्रह के वायुमंडल की परिक्रमा करेगी। यह बिलकुल एक गुब्बारे की तरह होगा, लेकिन एक ढका हुआ गुब्बारा होगा। फ्लोरिडा स्थित कंपनी छह घंटे की यात्रा के दौरान पृथ्वी का मनोरम दृश्य पेश करेगी। हजारों सॉफ्टवेयर विश्लेषणों के बाद स्पेस पर्सपेक्टिव स्पेस में यह एक नया पर्यटन प्रयास है। हालाँकि स्पेस पर्सपेक्टिव पृथ्वी से केवल 20 मील ऊपर जाता है, वर्जिन गेलेक्टिक 50 मील ऊपर जाता है और ब्लू ओरिजिन पृथ्वी से 65 मील ऊपर जाता है। तो यहां आप मार्टिनी स्थिर अनुभव प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन ब्लू ओरिजिन जैसी भारहीन स्थिति नहीं।
 सबसे बड़ी बात है कि ब्लू ओरिजिन क्रू ने पिछले साल की यात्रा पर तीन मिनट के लिए भारहीनता का अनुभव किया। पूरी यात्रा शुरू से अंत तक 11 मिनट में पूरी हुई। जबकि ब्रैनसन की वर्जिन गेलेक्टिक की यात्रा ढाई घंटे की थी, उनकी भारहीनता पांच मिनट तक चली। स्पेस परफेक्ट की लागत वर्जिन की $475,000 और ब्लू ओरिजिन की $280 मिलियन से बहुत कम है। स्पेस पर्सपेक्टिव के संस्थापक, सह-सीईओ और सीटीओ टाबोर मैक्कलम ने कहा कि सदियों से गुब्बारे और पैराशूट का इस्तेमाल किया जाता रहा है। बैलूनिंग हमेशा रोमांचक रहा है। जबकि पारंपरिक पैराशूट में बैकअप सिस्टम होता है। यह एक बहुत ही सुरक्षित और मजबूत विकल्प है। इस स्पेसशिप का बाहरी रूप तो खूबसूरत होगा, लेकिन इसका इंटीरियर भी जबरदस्त होगा। इसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी इंजीनियरिंग टीम ने ली है। बार में बैठे हुए उनकी इस तस्वीर का विहंगम नजारा लिया जा सकता है. लगभग 900 स्पेसशिप टिकट पहले ही बेचे जा चुके हैं। इसकी व्यावसायिक उड़ानें 2024 से शुरू होंगी। इसकी बुकिंग 2025 तक हो चुकी है। इसमें एक साथ अधिकतम आठ पर्यटक आ सकते हैं। इसकी बड़ी सीट में रिक्लाइनर भी है। हमारी मालिकाना उड़ान प्रणाली का मतलब है कि कैप्सूल और स्पेस बैलून हमेशा जुड़े रहेंगे। टेक-ऑफ और लैंडिंग हमारे नियंत्रण में होगी। हमारी टीम ने स्पेसशिप नेपच्यून के रूप में एक मजबूत, सुरक्षित, शांत और शानदार प्रणाली तैयार की है। इस प्रकार अंतरिक्ष यान स्वयं दुनिया की पहली लग्जरी स्पेसफ्लाइट कंपनी होने का दावा कर सकता है।
बता दें कि स्पेस पर्सपेक्टिव ने बताया कि स्पेसशिप नेपच्यून की यात्रा टेकऑफ से लेकर समुद्र में लैंड करने तक कुल 6 घंटे की होगी। यानी स्पेसशिप नेपच्यून आपको कुछ ही घंटों में यात्रा कराकर सुरक्षित जमीन पर ले आएगा। फायदा ये होगा कि आपके नाम के आगे एस्ट्रोनॉट लग जाएगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें