नार्वे शतरंज टूर्नामेंट : एक बार फिर दिखा भारतीय ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद का दम, पिछले एक हफ्ते में वर्ल्ड चैंपियन मैग्नस कार्लसन कोदूसरी बार हराया

इस प्रतिष्ठित खिताब को अपने नाम करने के लिए आगे बचे हुए चार राउंड में ऐसा ही दमदार खेल दिखाना है

भारतीय ग्रैंडमास्टर विश्वनाथन आनंद ने नार्वे शतरंज टूर्नामेंट में दुनिया के नंबर एक मैगनस कार्लसन को हराकर टाप पोजिशन बनाई है। भारतीय चेस ग्रैंड मास्टर विश्वनाथन आनंद पिछले एक हफ्ते में वर्ल्ड चैंपियन मैग्नस कार्लसन को दो बार हरा चुके हैं। नॉर्वे शतरंज टूर्नामेंट में इस जीत के साथ उन्होंने 10 अंक हासिल किए। वे अब तालिका में पहले नंबर पर पहुंच गए हैं। पांचवें राउंड में भारतीय स्टार ने दमदार चालों के दम पर नंबर एक खिलाड़ी को मात देते हुए अंक तालिका में पहले स्थान पर अपना नाम पहुंचाया। 52 साल के आनंद ने कार्लसन के खिलाफ 50 चालों में जीत हासिल की और अपना पूरा अनुभव दिखाया। इससे पहले 31 मई को वे इस ही टूर्नामेंट के ब्लिट्ज वर्ग के सातवें दौर में उनसे जीत चुके हैं। नियमित 40 चालों में ड्रॉ के बाद क्लासिकल वर्ग के इस मैच में आर्मगेडन खेला गया। क्लासिकल वर्ग में मैच ड्रॉ होने के बाद खिलाड़ियों को आर्मगेडन खेलना पड़ता है।
आनंद के अब कुल 10 अंक हो चुके हैं। उनको इस प्रतिष्ठित खिताब को अपने नाम करने के लिए आगे बचे हुए चार राउंड में ऐसा ही दमदार खेल दिखाना है। क्लासिकल वर्ग की शुरुआत में आनंद ने फ्रांस के मैक्सिम वाचियेर लाग्रेव, बुल्गारिया के वेसेलिन टोपालोव और चीन के हाओ वैंग से लगातार तीन बाजियां जीती थीं। वहीं चौथे राउंड में उन्हें अमेरिका के वीजली के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था। पांच बार के विश्व चैंपियन ने क्लासिकल वर्ग के पहले दौर में फ्रांस के मैक्सिम वाचियेर लाग्रेव को हराया था। इसके बाद बुल्गारिया के वेसलीन टोपालोव को हराकर लगातार दूसरी जीत दर्ज की। चीन के हाओ वांग को मात जीत की हैट्रिक पूरी की थी। 
भारत में पहली बार होने वाले चेस ओलंपियाड के लिहाज से आनंद की जीत और जरूरी हो जाती है। 28 जुलाई से 10 अगस्त के बीच तमिलनाडु के महाबलीपुरम में 44वां चेस ओलिंपियाड होगा। अभी तक इसके लिए ओपन केटेगरी में 343 और महिला वर्ग में 187 देशों के खिलाड़ी रजिस्टर कर चुके हैं। इस टूर्नामेंट पर पूरी दुनिया की निगाहें रहती हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें