जेल में ‘क्लर्क’ बनेगे नवजोत सिंह सिद्धू, मिलेगा इतना वेतन

हाल ही में नवजोत सिंह सिद्धू को अपने 34 साल पुराने रोडरेज मामले में एक साल की सजा हुई हैं। इसके लिए नवजोत सिंह सिद्धू ने खुद का पटियाला जेल में आत्मसमर्पण कर दिया और अब उन्हें जेल में उन्हें लिपिकीय कार्य के लिए सहायक के रूप में नियुक्त किया गया है। जेल अधिकारियों ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि सिद्धू ने मंगलवार से जेल में अपना काम शुरू कर दिया है। 
जानकारी के अनुसार, नवजोत सिंह सिद्धू क्लर्क के तौर पर दो शिफ्ट में काम करेंगे। पहली पाली सुबह 9 बजे से दोपहर 12 बजे तक और दूसरी दोपहर 3 बजे से शाम 5 बजे तक होगी। जेल के नियमों के मुताबिक पहले तीन महीने तक बिना किसी वेतन के प्रशिक्षण दिया जाएगा। जिसके बाद उन्हें अकुशल, अर्धकुशल और कुशल कैदियों की श्रेणी में रखा जाएगा। जिसके बाद उन्हें कैटेगरी के हिसाब से 30 से 90 रुपये के बीच सैलरी मिल सकती है। 
इस बारे में पंजाब जेल के एक अधिकारी ने कहा कि सिद्धू को एक साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई गई है। साथ ही उनकी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए उन्हें कागजी कार्रवाई का जिम्मा दिया गया है। अधिकारी ने कहा कि वह काम के दौरान जेल के रिकॉर्ड को बनाए रखने में मदद करेगा। गौरतलब है कि मेडिकल बोर्ड की सिफारिश पर न्यायिक दंडाधिकारी ने नवजोत सिंह सिद्धू को जेल में स्पेशल डाइट लेने की इजाजत दी है। सिद्धू के वकील एचपीएस वर्मा ने कहा कि सिद्धू खराब स्वास्थ्य और एलर्जी से पीड़ित थे। वे गेहूं की रोटी, तैलीय खाद्य पदार्थ और चाय का सेवन नहीं कर सकते। जिससे उन्हें विशेष आहार की अनुमति दी जानी चाहिए। सिद्धू को ग्रेड 3 लीवर की समस्या और एम्बोलिज्म भी है। उन्होंने समर्थन रिकॉर्ड के साथ सिद्धू का मेडिकल इतिहास भी अदालत में पेश किया। वर्मा ने कहा कि सिद्धू खून के गाढ़ा होने की समस्या की दवा नहीं ले सकते थे, क्योंकि उन्हें विशेष आहार की जरूरत थी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें