एयरलाइंस कंपनियों के सामने चुनौतियों का पहाड़

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

उड़ान उद्योग के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि बढ़ते कोरोना मामलों की वजह से उड़ानें कैंसिल करने की प्रवृति बढ़ रही हैं

नयी दिल्ली, छह अप्रैल (आईएएनएस)| कई प्रमुख राज्यों में आंशिक यात्रा प्रतिबंधों को फिर से लागू करने के साथ कोविड मामलों की संख्या बढ़ने के साथ ही एयरलाइनों के एक वर्ग ने उड़ान क्षमता में कमी करने की कोशिशें शुरू कर दी है। उड़ान उद्योग के अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि बढ़ते कोरोना मामलों की वजह से उड़ानें कैंसिल करने की प्रवृति बढ़ रही है।
हालात की नजाकत को समझते हुए अब केंद्र सरकार ने एयरलाइंस को अपनी क्षमता का 80 प्रतिशत इस्तेमाल करने की अनुमति दी है। 25 मई, 2020 को केवल 33 प्रतिशत की सीमित क्षमता के साथ घरेलू क्षेत्र को फिर से खोला गया था। तब से परिचालन क्षमता केवल बढ़ते यात्री यातायात के साथ-अनुरूपता में वृद्धि हुई है।
एक प्रमुख निजी एयरलाइन के एक वरिष्ठ कार्यकारी अधिकारी ने आईएएनएस को बताया, कोविड के मामलों में नाटकीय रूप से वृद्धि हुई है जिससे उड़ानें रद्द करने की प्रवृति बढ़ रही है। उनका कहना है जैसा कि अधिक से अधिक राज्यों ने कोविड आधारित प्रवेश प्रतिबंध लगाना और शुरू किया है, उससे भविष्य में स्थिति और खराब हो सकती है। अभी 80 प्रतिशत उड़ान भरना असंभव है।
मुंबई के एक उद्योग के अंदरूनी सूत्र के अनुसार: सभी एयरलाइनों में संकट की स्थिति है। कई एयरलाइंस कर्मचारियों के वेतन में कटौती कर रही हैं। नतीजतन, बढ़ते मामलों, यात्रा प्रतिबंधों को फिर से लागू करने से उद्योग पर एक बड़ा नकारात्मक प्रभाव पड़ने की उम्मीद है। इसके अलावा, उद्योग के अंदरूनी सूत्रों ने कहा कि संबंधित एयरलाइनों द्वारा नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सामने इस मुद्दे को जल्द उठाया जाएगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें