सरदार पटेल जयंती पर मोदी ने दी श्रद्धांजलि, कहा - ‘सरदार पटेल मात्र इतिहास में नहीं, हर किसी के दिल में रहते हैं!’

देश को एक शरीर के रूप में देखते थे सरदार पटेल

31 अक्टूबर यानि की आज सरदार वल्लभभाई पटेल की जयंती पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक वीडियो संदेश के माध्यम से स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर एकता परेड को संबोधित किया। पीएम मोदी ने कहा कि देश आज वल्लभभाई पटेल को श्रद्धांजलि दे रहा है। सरदार पटेल न केवल इतिहास में रहते हैं बल्कि वे सभी भारतीयों के दिलों में रहते हैं। पीएम मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय एकता दिवस की सभी देशवासियों को शुभकामनाएं। आज देश उस राष्ट्रीय नायक सरदार वल्लभभाई पटेल को श्रद्धांजलि अर्पित कर रहा है, जिन्होंने अपने जीवन का प्रत्येक क्षण भारत-सर्वश्रेष्ठ भारत को समर्पित कर दिया।
पीएम ने कहा कि सरदार पटेल हमेशा चाहते थे कि भारत मजबूत, समावेशी, संवेदनशील और सतर्क, विनम्र और विकसित हो। उन्होंने हमेशा राष्ट्रहित को सर्वोपरि रखा। आज उनकी प्रेरणा से भारत देश के भीतर और बाहर हर तरह की चुनौतियों से पार पाने में पूरी तरह सक्षम होता जा रहा है।  
मोदी ने कहा कि सरदार साहब ने हमारे देश को एक शरीर के रूप में देखा। वह देश को एक इकाई के तौर पर देखते थे। इसलिए उनके एक भारत का मतलब यह भी था कि सभी को समान अवसर, समान सपने देखने का अधिकार होना चाहिए।  उन्होंने कहा कि आज से कई दशक पहले के दौर में भी उनके आंदोलन की ताकत यह थी कि इसमें स्त्री-पुरुष, हर वर्ग, हर संप्रदाय की सामूहिक ऊर्जा का इस्तेमाल किया गया। तो आज जब हम एक भारत की बात करते हैं तो एक भारत का स्वरूप कैसा होना चाहिए? एक ऐसा भारत जहां महिलाओं के पास एक से अधिक अवसर हों, एक ऐसा भारत जहां देश का हर नागरिक जैसे दलित, वंचित, आदिवासी, वनवासी सब कोई एक समान महसूस करें। एक ऐसा भारत जहां बिजली और पानी जैसी सुविधाओं में भेदभाव न हो, समान अधिकार होने चाहिए, यही देश आज कर रहा है। वह इस दिशा में नए लक्ष्य निर्धारित कर रहा है और ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि आज देश के हर संकल्प में हर कोई शामिल है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें