जानें कचरे से जूता बनाने वाले इस युवक से क्यों प्रभावित हैं आनंद महिंद्रा

(Photo Credit : khabarchhe.com)

प्लास्टिक से जूते बनाने वाले इस स्टार्टअप को फंड देना चाहते है आनंद महिंद्रा

जब भी किसी की क्रिएटिविटी की सराहना की बात होती है तो आनंद महिंद्रा का नाम सबसे आगे रहते हैं। आनंद महिंद्रा का हर दूसरा ट्वीट किसी न किसी की सराहना के लिए होता है। आनंद महिंद्रा न सिर्फ ऐसे खास लोगों की तारीफ करते है बल्कि उनकी मदद भी करते हैं। एक बार फिर आनंद महिंद्रा की नजर एक विशेष प्रतिभा वाले एक भारतीय उद्यमी पर पड़ी है। इस युवक की कंपनी प्लास्टिक की बोतलों और स्क्रैप बैग से जूते बनाती है।
आपको बता दें कि 23 साल के भारतीय उद्यमी आशय भावे जब बिजनेस स्कूल में थे, तब उन्हें एक ऐसी कंपनी शुरू करने का विचार आया जो बेकार प्लास्टिक को रिसाइकिल करती है और स्नीकर्स बनाती हो। उनके इस स्टार्टअप का नाम थैली है। इस कंपनी का लक्ष्य हर साल इस्तेमाल होने वाले 100 अरब प्लास्टिक बैग की समस्या का समाधान करना है। पर्यावरण के लिए अत्यंत हानिकारक प्लास्टिक बैग के कारण हर साल 100,000 समुद्री जीवन मारे जाते हैं।
जानकारी के अनुसार नार्वे के पूर्व राजदूत और मंत्री और संयुक्त राष्ट्र के पूर्व पर्यावरण प्रमुख एरिक सोलहम के एक ट्वीट के माध्यम से आनंद महिंद्रा को आशय और उसके स्टार्टअप के बारे में पता चला। दरअसल एरिक सोलहेम ने अपने एक ट्वीट में थैली के बारे में जानकारी देते हुए एक बेहतरीन वीडियो शेयर किया। साथ ही इस स्टार्टअप की तारीफ की। इस ट्वीट के बाद आनंद महिंद्रा ने इस स्टार्टअप के बारे में न जानने का पछतावा दिखाते हुए इस स्टार्टअप को प्रोत्साहित करने की बात कही। इस ट्वीट को री ट्वीट करते हुए उन्होंने इस कंपनी द्वारा बनाए गए जूतों की एक जोड़ी खरीदने का फैसला किया है, इसके अलावा वे अपने स्टार्टअप को भी फंड देना चाहते हैं।
कंपनी की बात करें तो आशय ने जुलाई 2021 में 'बैग' स्टार्टअप की शुरुआत की थी। जूते बनाने में 12 प्लास्टिक की बोतलें और 10 प्लास्टिक बैग का इस्तेमाल किया जाता है। जूता बनाने के दौरान, प्लास्टिक की थैलियों को गर्मी और दबाव से थायलेटैक्स नामक कपड़े में बदल दिया जाता है। इसके बाद इसे जूते के पैटर्न में काटा जाता है। रीसाइक्लिंग द्वारा कपड़े में परिवर्तित प्लास्टिक की बोतल को रैप (पॉलीइथिलीन टेरेफ्थेलेट) कहा जाता है, जिसका उपयोग अस्तर, मल, पैकेजिंग और अन्य भागों के लिए किया जाता है। जूते का एकमात्र पुनर्नवीनीकरण रबर से बना है। 10 डॉलर की कीमत वाली कंपनी इन जूतों को दुनिया में कहीं भी भेजने के लिए तैयार है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें