जानिए सोना रीसायकल करने में इस साल भारत कौन से स्थान पर, किया कितना सोना रीसायकल?

प्रतिकात्मक तस्वीर(Photo Credit : Pixabay.com)

2013 में भारत की रिफाइनिंग और रीसाइक्लिंग क्षमता केवल 300 टन थी, लेकिन 2021 तक यह पांच गुना बढ़कर 1,500 टन हो गई

सोने के पुनर्चक्रण (रीसाइक्लिंग) के मामले में भारत दुनिया में चौथे स्थान पर है। पिछले साल भारत ने 75 टन सोने को रीसायकल किया था। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (WGC) ने एक रिपोर्ट में कहा कि 2013 में भारत की रिफाइनिंग और रीसाइक्लिंग क्षमता केवल 300 टन थी, लेकिन 2021 तक यह पांच गुना बढ़कर 1,500 टन हो गई है। हालांकि भारत इस संबंध में चौथे स्थान पर है, फिर भी यह घरेलू सोने के रीसायकल का केवल 8% हिस्सा है। बाकी सोना विदेशों से आयात के जरिए आता है। सोने की कीमतों में उतार-चढ़ाव, कीमतों के पूर्वानुमान और आर्थिक स्थितियों के कारण पुनर्चक्रण में तेजी आई है। पिछले साल चीन गोल्ड रिफाइनिंग और रिसाइक्लिंग में सबसे आगे था। इसके लिए 168 टन सोने का इस्तेमाल किया गया था। इटली ने दूसरे स्थान पर 80 टन और अमेरिका ने तीसरे स्थान पर 78 टन सोने का पुनर्नवीनीकरण किया।
रिपोर्ट के मुताबिक एक दशक में भारत की रिफाइनिंग और रीसाइक्लिंग की तस्वीर बदल गई है। सरकार द्वारा नियम सख्त किए जाने के बाद से गोल्ड रिफाइनिंग काफी अच्छा चल रहा है। संगठित क्षेत्र में पर्स की संख्या 2013 में सिर्फ 5 से बढ़कर 33 हो गई है। हालांकि, असंगठित क्षेत्र की शोधन क्षमता 300 से 500 टन है। हालांकि, असंगठित क्षेत्र में क्षमता लगातार घट रही है क्योंकि सरकार ने प्रदूषण से संबंधित नियमों को कड़ा कर दिया है। टैक्स स्ट्रक्चर में सुधार से गोल्ड रिफाइनिंग को भी मजबूती मिली है। सरकार ने कच्चे सोने पर रिफाइंड सोने से आयात शुल्क अलग कर दिया है। इसके बाद परिष्कृत सोने के निर्यात और कच्चे सोने के आयात में तेजी आई। 2013 में भारत के कुल आयात में कच्चे सोने की हिस्सेदारी 7 फीसदी थी, जो अब बढ़कर 22 फीसदी हो गई है।
वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के क्षेत्रीय सीईओ सोमसुंदरम पीआरए ने कहा कि अगर भारत अपने सराफा क्षेत्र में नए सुधारों को लागू करता है तो भारत रिफाइनिंग क्षेत्र में महत्वपूर्ण प्रगति कर सकता है। गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम के जरिए सरप्लस गोल्ड को बाजार में लाने की जरूरत है। इससे सोना सस्ता तो होगा ही, साथ ही मांग भी बढ़ेगी। रिफाइनिंग क्षमता भी बढ़ाई जाएगी। सराफा बाजार में सुधार के अगले चरण में छड़ों के निर्यात और कबाड़ की आपूर्ति में लगातार तेजी आने पर भारत एक प्रतिस्पर्धी रिफाइनिंग हब के रूप में उभरने की क्षमता रखता है। घरेलू पुनर्चक्रण बाजार रुपये की कीमतों और अर्थव्यवस्था के चक्र से संचालित होता है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें