केरल : एक अजगर के कारण 54 दिनों तक स्थगित हुआ पुलिया निर्माण का काम, कारण जानकार आप भी करेंगे तारीफ

केरल के कासरगोड में फोर-लेन हाईवे का निर्माण कर रही यूरालुंगल लेबर कॉन्ट्रैक्ट को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड ने एक पुलिया के निर्माण कार्य को 54 दिनों के लिए इसलिए स्थगित कर दिया, ताकि एक अजगर अपने 24 अंडे दे सके

आज तक आपने सड़क या बिल्डिंग बनाने के चक्कर में जानवरों और पक्षियों के घरौंदे को उजाड़ने के बारे में बहुत बार सुना होगा पर आज हम आपको एक ऐसे मामले से बारे बताने जा रहे है जिसमें एक अजगर के अंडे के लिए पुल के काम को रोकने का बेहद खास मामला सामने आया है। केरल में सामने आए इस मामले को जानकर हर कोई काम करने वालों की तारीफ कर रहे है।
जानकारी के अनुसार वन विभाग, कंपनी और एक समर्पित सांप बचावकर्ता ने सांपों को दुनिया में लाने के लिए बेहद सराहनीय प्रयास किया। केरल के कासरगोड में फोर-लेन हाईवे का निर्माण कर रही यूरालुंगल लेबर कॉन्ट्रैक्ट को-ऑपरेटिव सोसाइटी लिमिटेड ने एक पुलिया के निर्माण कार्य को 54 दिनों के लिए इसलिए स्थगित कर दिया, ताकि एक अजगर अपने 24 अंडे दे सके।
फिलहाल मिल रही जानकारी के अनुसार अजगर के सभी 24 अंडों से बच्चे निकल गए हैं। जिन्हें जंगल में छोड़ दिया गया। 20 मार्च को, CPCRI के पास एरियाल में NH 66 के चौड़ीकरण के हिस्से के रूप में एक पुलिया का निर्माण करने वाले श्रमिकों ने भारतीय रॉक अजगर को एक मांद के अंदर घूमते हुए देखा जिसके बाद उन्होंने वन विभाग को सूचित किया। वन विभाग ने पिछले 10 वर्षों से सांपों को बचा रहे अमीन को बुलाया। जब अमीन ने बिल के अंदर जाकर देखा, तो उन्होंने कई अंडे पाए और अजगर ने खुद को उनके चारों ओर लपेटा हुआ था। उन्होंने नेपाल के मिथिला वाइल्डलाइफ ट्रस्ट में एक पशु चिकित्सक और वन्यजीव अनुसंधान के प्रमुख मवीश कुमार से संपर्क किया और जाना कि इसे कैसे अंजाम दिया जाना है। अजगरों को वन्यजीव संरक्षण अधिनियम की अनुसूची I के तहत वर्गीकृत किया गया है और भारत में बाघों के समान उच्च-स्तरीय कानूनी संरक्षण प्राप्त है। इसलिए विभाग ने यूएलसीसीएस को पुलिया पर काम स्थगित करने पर विचार करने को भी कहा है।
 बता दें कि अजगर के अंडों को इनक्यूबेट करने के लिए 27 डिग्री सेल्सियस और 31 डिग्री सेल्सियस के बीच नियंत्रित तापमान की आवश्यकता होती है। तापमान में वृद्धि से बच्चे मृत पैदा हो सकते हैं या विकृतियों के साथ पैदा हो सकते हैं। अंडों को सही तापमान पर रखने के लिए मदर स्नेक अंडे के चारों ओर घेरा बनाती है। एक बार जब यूएलसीसीएस ने अंडे सेने तक कहीं और काम करने का फैसला किया, तो अमीन ने दिन में एक या दो बार सांप और अंडों की देखरेख का रुटीन बना लिया। अजगर के अंडे सेने में लगभग 60 से 65 दिन लगते हैं।  

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें