केरल : 'मेट्रोमैन' श्रीधरन ने की राजनीतिक पारी की शुरुआत, जानें किस सीट से भाजपा के टिकट पर लड़ने की है इच्छा

मेट्रोमैन के नाम से पहचाने जाने वाले ई. श्रीधरन केरल से भाजपा के टिकट पर विधानसभा चुनाव लड़ेंगे। (Photo : IANS)

इंजीनियरिंग के क्षेत्र में देश में कमाल के प्रोजेक्ट करने वाले मेट्रोमेन के नाम से मशहूर ई. श्रीधरन के लिए गुरुवार का दिन उनके इंजीनियरिंग करियर का आखिरी दिन

कोच्चि, 4 मार्च (आईएएनएस)| इंजीनियरिंग के क्षेत्र में देश में कमाल के प्रोजेक्ट करने वाले मेट्रोमेन के नाम से मशहूर ई. श्रीधरन के लिए गुरुवार का दिन उनके इंजीनियरिंग करियर का आखिरी दिन होगा। साथ ही वे इसी दिन से अपनी राजनीतिक पारी की भी शुरुआत करेंगे।
88 वर्षीय श्रीधरन अब भी अक्सर दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) की अपने ट्रेडमार्क यूनिफॉर्म पहन लेते हैं। उन्होंने पलारीवट्टोम फ्लाईओवर पर मीडिया से कहा कि इस क्षेत्र गुरुवार का दिन उनका अंतिम कार्य दिवस होगा। उन्होंने कहा, "जब हमें इस प्रोजेक्ट का काम सौंपा गया था, तो राज्य सरकार ने हमें इसे रीकंस्ट्रक्ट करने के लिए 8 महीने का समय दिया था, लेकिन हमने इसे 5 महीने में ही पूरा कर लिया है। यह यूरालुंगल लेबर कोऑपरेटिव सोसायटी के काम के कारण संभव हो पाया। आज का दिन मेरे आधिकारिक करियर में आखिरी दिन होगा।"
पलारीवट्टोम फ्लाईओवर प्रोजेक्ट तीन साल के भीतर पूरा किया था
ओमन चांडी के कार्यकाल में 42 करोड़ रुपये की लागत से बने 750 मीटर के इस फ्लाईओवर को लेकर माना जा रहा था कि यह करीब 100 साल तक चलेगा। लेकिन अक्टूबर 2016 में इसे उपयोग के लिए खोलने के 3 साल के अंदर ही इसकी सतह उखड़ने लगी थी और इसे बंद करना पड़ा था। इसके बाद केरल सरकार ने इसके पुनर्निर्माण के लिए हरी झंडी दी और इस काम को डीएमआरसी को सौंपा। सितंबर 2020 में इसका काम डीएमआरसी ने शुरू किया और अब यह काम पूरा करने के साथ ही श्रीधरन अपने अधिकारिक करियर को अलविदा कह रहे हैं। श्रीधरन ने कहा, "यह फ्लाईओवर अब राज्य सरकार को सौंप दिया जाएगा और वह तय करेगी कि इसे कब खोलना है।"
जानें किस सीट से लडेंगे अगला विधानसभा चुनाव
श्रीधरन से जब आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा के टिकट से चुनाव लड़ने के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, "चूंकि अब मैं पोन्नानी (मलप्पुरम जिले) में रहता हूं, इसलिए मेरा अनुरोध इसके आस-पास की किसी सीट से चुनाव लड़ने का होगा। मेरा अभियान केवल प्रत्येक मतदाता से मिलने से का नहीं होगा, बल्कि मैं प्रत्येक मतदाता से मैसेज के जरिए बात करूंगा।"
पिछले महीने श्रीधरन ने भाजपा में शामिल होने के अपने फैसले की घोषणा करके सबको आश्चर्य में डाल दिया था। साथ ही वह विधानसभा चुनाव में मैदान में उतरने के लिए भी तैयार हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें