केरल : पति से दूर रह रही महिला के गर्भपात के लिए पति की सहमति या अनुमति जरुरी नहीं : हाई कोर्ट

अपने पति से अलग होने का दावा करने वाली एक महिला को कोर्ट ने अपने 21 सप्ताह के भ्रूण को गिराने की अनुमति दे दी

आमतौर पर गर्भपात के लिए महिला और उसके पति दोनों की सहमती जरुरी होती है पर केरल उच्च न्यायालय ने अपने पति से अलग होने का दावा करने वाली एक महिला को अपने 21 सप्ताह के भ्रूण को गिराने की अनुमति दे दी। जज वीजी अरुण ने कहा कि गर्भपात के लिए मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेग्नेंसी एक्ट के तहत पति की सहमति जरूरी नहीं है।

पति के साथ अच्छे संबंध नहीं


एमटीपी अधिनियम के अनुसार, गर्भधारण के 20 से 24 सप्ताह के बीच गर्भपात की अनुमति देने वाले कारकों में से एक चल रही गर्भावस्था के दौरान वैवाहिक स्थिति में बदलाव है। अदालत ने कहा कि गर्भवती महिला भले ही कानूनी रूप से तलाकशुदा या विधवा नहीं थी, लेकिन उसके पति के साथ उसके संबंध अच्छे नहीं थे। उसके खिलाफ आपराधिक शिकायतें और यह तथ्य कि पति-पत्नी एक साथ नहीं रहते। साथ ही दोनों ने उन्होंने साझेदारी जारी रखने की कोई इच्छा नहीं जताई है। यह उनके वैवाहिक जीवन में एक बड़ा बदलाव है।

दहेज की मांग की थी


याचिकाकर्ता ने अपने परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी कर ली। शादी के समय वह ग्रेजुएशन कर रही थी और वह आदमी बस कंडक्टर था। लेकिन शादी के बाद याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया कि पति और उसकी मां ने दहेज की मांग कर उसके साथ बदसलूकी की. उसने यह भी आरोप लगाया कि उसके पति ने बच्चे के पितृत्व पर भी सवाल उठाया और वित्तीय या भावनात्मक समर्थन देने से इनकार कर दिया।

डॉक्टर ने गर्भपात कराने से किया इनकार


जब महिला गर्भपात कराने के लिए एक स्थानीय क्लिनिक में गई, तो डॉर्टारो ने उसे मना कर दिया क्योंकि उसके पास अलगाव/तलाक के दस्तावेज नहीं थे। इसके बाद उसने अपने पति के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। जब वह फिर से क्लिनिक गई, तो डॉक्टरों ने एक बार फिर उसे गर्भपात से मना कर दिया और उसे अदालत का दरवाजा खटखटाना पड़ा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें