सामने आया चीनी एप्लीकेशन का अंतर्राष्ट्रीय घोटाला, हजारों लोगों से लुटे करोड़ों रूपये

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit : Pixabay.com)

भुज में एक ही परिवार के तीन सदस्यों को लगाया चूना, भुज पुलिस जाँच के सिलसिले में दिल्ली पहुंची

चीनी मोबाइल एप्लिकेशन पावर बैंक के अंतरराष्ट्रीय घोटाले में भुज साइबर सेल की एक टीम ने दिल्ली में डेरा डाला है। भुज में ऑनलाइन ठगी की राशि नोएडा में पंजीकृत एक कंपनी के खाते में ट्रांसफर की गई. भुज साइबर सेल के अधिकारियों ने घोटाले की जड़ तक पहुंचने के लिए दिल्ली में जांच शुरू की थी.
आपको बता दें कि पावर बैंक एप्लिकेशन का मुख्य सर्वर चीन में है, इस जानकारी के आधार पर पुलिस को संदेह है कि इस अंतरराष्ट्रीय घोटाले के मास्टरमाइंड चीन से हैं। इस चीनी गिरोह ने छह राज्यों में लाखों लोगों को ज्यादा मुनाफे का लालच देकर 250 करोड़ रुपये ठग लिए। आरोपी करीब 100 फर्जी शेल कंपनियों के खातों में घोटाले की राशि ट्रांसफर कर रहे थे। सूरत पुलिस ने उन लोगों से भी पूछताछ की जिनके आईडी प्रूफ कंपनियों ने दर्ज किए थे और दो आरोपियों को गिरफ्तार किया।
आपको बता दें कि पूरे घोटाले को एक चीनी गिरोह ने मोबाइल एप्लिकेशन पावर बैंक बनाकर विभिन्न सोशल मीडिया साइटों पर लिंक डालकर अंजाम दिया था। आरोपी ने सोशल मीडिया पर एप्लिकेशन को प्रसारित किया और शुरू में लोगों को ऐप डाउनलोड करने और घर बैठे पैसे कमाने का लालच दिया। ऐप डाउनलोड करने वाले लोगों को ऐप का लिंक भेजकर इसे खोलने के लिए कहा गया था।
लिंक खोलने के साथ ही उसमें विज्ञापन या उसमें लिखे टेक्स्ट को लाइक करने से लोगों के खातों में पैसे जमा हो जाते। इस तरह एक घंटे तक इस एप्लीकेशन का उपयोग करने से लोगों के अकाउंट में 8 से 10 जमा किया गया। इस तरह भरोसा हासिल कर आरोपी लोगों को 300 रुपये देकर सदस्य बनने का लालच दिया गया। साथ ही अधिक सदस्य बनाने पर अधिक लाभ कमाने के लिए लुभाया गया। इसी तरह भुज के एक ही परिवार के तीन सदस्यों से पांच हजार रुपये ठग लिए गए। चार महीने में आरोपियों ने गुजरात, महाराष्ट्र, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना और झारखंड में लाखों लोगों से करोड़ों रुपये ठगे हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें