भारत : एक समय था चीतों का घर पर आज़ादी के बाद से विलुप्त हो गये सारे चीते, अब 70 साल बाद फिर सुनने को मिलेगी इस ‘जंगली बिल्ली’ की दहाड़

भारत में तेंदुए के आवास का एक बहुत लंबा इतिहास रहा है, 1947 में तत्कालीन कोरिया रियासत के महाराजा रामानुज प्रताप सिंह देव ने आखिरी तीन तेंदुओं का शिकार किया था

एक समय चीतों का घर माने जाने वाले भारत में स्वतंत्रता के समय चीता की प्रजाति पूरी तरह से विलुप्त हो गई। 1947 में तत्कालीन कोरिया रियासत मध्य प्रदेश और अब छत्तीसगढ़ के महाराजा रामानुज प्रताप सिंह देव ने देश के आखिरी तीन तेंदुओं का शिकार किया था। जिसकी तस्वीर बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी में भी है। उस दिन के बाद से तेंदुआ भारत में कभी नहीं देखा गया। अब 75 साल बाद तेंदुआ भारत आ रहा है। भारत में तेंदुए के आवास का एक बहुत लंबा इतिहास रहा है। तेंदुए का सबसे पहला उल्लेख 12वीं शताब्दी के संस्कृत दस्तावेज मानसोलसा में मिलता है। यह दस्तावेज कल्याणी चालुक्य शासक सोमेश्वर तृतीय द्वारा तैयार किया गया था जिन्होंने 1127 और 1138 के बीच शासन किया था।


भारत में विभिन्न राजाओं के शासनकाल में देखी गई तेंदुओं की उपस्थिति


इस बारे में बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी की पूर्व अध्यक्ष दिव्या भानु सिंह ने चीतों पर एक किताब लिखी है। इसे द एंड ऑफ ए ट्रेल - द चीता इन इंडिया कहा जाता है। ऐसा कहा जाता है कि भारत में विभिन्न राजाओं के शासनकाल में तेंदुओं की उपस्थिति देखी गई है। कहा जाता है कि 1556 से 1605 तक मुगल बादशाह अकबर के शासनकाल में देश में 10 हजार से ज्यादा तेंदुए थे। अकबर के पास कई चीते भी थे। जिसका इस्तेमाल वह शिकार के लिए करता था। कई रिपोर्ट्स ने तो यहां तक दावा किया है कि अकेले अकबर के पास एक हजार से ज्यादा तेंदुए थे। अकबर के बेटे जहांगीर ने पाला परगना में तेंदुओं की मदद से 400 से ज्यादा हिरणों का शिकार किया था। अकबर ही नहीं, मुगल काल और उसके बाद के सभी राजाओं ने शिकार के लिए तेंदुओं का उपयोग करना शुरू कर दिया।

शिकार के लिए पकड़े जाने लगे ये जानवर


जैसे ही राजाओं ने चीतों को शिकार के लिए पकड़ना शुरू किया, उन्होंने कुत्तों और बिल्लियों की तरह चीतों को रखना शुरू कर दिया। इससे चीतों की प्रजनन दर गिर गई और उनकी आबादी लगातार घटने लगी। बीसवीं शताब्दी की शुरुआत तक, भारतीय तेंदुओं की आबादी घटकर सैकड़ों हो गई थी और राजकुमारों ने अफ्रीकी जानवरों का आयात करना शुरू कर दिया था। 1918 और 1945 के बीच लगभग 200 चीतों का आयात किया गया था। ब्रिटिश शासन के दौरान तेंदुओं का शिकार किया जाता था।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें