बैंक में है अकाउंट तो भूल से भी ना करे ये गलती, सारी कमाई हो सकती है गायब

(Photo : IANS)

केवाईसी अपडेट करने के बहाने अनधिकृत या असत्यापित ऐप इंस्टॉल करने को बोलकर कर देते है अकाउंट खाली

देश में डिजिटल भुगतान के बढ़ने के साथ ही धोखाधड़ी के मामले भी बढ़ रहे हैं। आरबीआई ने उपभोक्ताओं को धोखाधड़ी से बचने की चेतावनी जारी की है। रिजर्व बैंक ने ट्वीट किया है कि उसे शिकायतें मिल रही हैं कि केवाईसी अपडेट करने के नाम पर बैंक के ग्राहकों को ठगा जा रहा है। आरबीआई का कहना है कि आपको अपने कार्ड का इस्तेमाल बहुत सावधानी से करना चाहिए। एटीएम/डेबिट कार्ड की जानकारी किसी को न दें।
आरबीआई का कहना है कि ग्राहकों को फोन, एसएमएस और ईमेल भेजकर व्यक्तिगत जानकारी साझा करने के लिए कहा जा रहा है। इसमें लॉगिन विवरण, कार्ड की जानकारी, पिन और ओटीपी शामिल हैं। इसके अलावा ग्राहकों को लिंक भेजकर केवाईसी अपडेट करने के लिए अनधिकृत या असत्यापित ऐप इंस्टॉल करने के लिए भी कह सकता है। ग्राहकों को एसएमएस और ईमेल भेजकर बताया जा रहा है कि केवाईसी अपडेट नहीं करने पर उनका अकाउंट फ्रीज, ब्लॉक या बंद हो सकता है।
यदि ग्राहक द्वारा उन्हें ओटीपी, पिन बताया जाता है या उनके दिये गए लिंक पर क्लिक किया जाता है तो जालसाजों को उनके उनके अकाउंट का सारा एक्सेस मिल जाता है और उसके अकाउंट से पैसे निकल सकते है। आरबीआई का कहना है कि विनियमित संस्थाओं को समय-समय पर केवाईसी को अपडेट करना होगा लेकिन प्रक्रिया को सरल बनाने की जरूरत है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि यदि किसी ग्राहक के खाते में समय-समय पर अद्यतनीकरण हुआ है, तो उसके खाते पर केवल 31 दिसंबर, 2021 तक कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी, जब तक कि किसी नियामक/प्रवर्तन एजेंसी/अदालत के निर्देश पर ऐसा करना आवश्यक न हो।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें