जनवरी-मार्च के दौरान दक्षिण भारत में सबसे अधिक बढ़ी संपत्ति की कीमत

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

मैजिकब्रिक्स प्रॉपइंडेक्स की नवीनतम रिपोर्ट में कहा गया है कि मूल्य के नजरिए से देश के दक्षिणी क्षेत्र में 2021 की पहली तिमाही में निर्माणाधीन और तैयार (रेडी-टू-मूव) दोनों सेगमेंट में सबसे अधिक मूल्य वृद्धि दर्ज की गई है।

नई दिल्ली, 2 अप्रैल (आईएएनएस)| जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान देश के दक्षिणी बाजारों में संपत्ति की कीमतों में सबसे अधिक वृद्धि हुई है। एक हालिया रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। मैजिकब्रिक्स प्रॉपइंडेक्स की नवीनतम रिपोर्ट में कहा गया है कि मूल्य के नजरिए से देश के दक्षिणी क्षेत्र में 2021 की पहली तिमाही में निर्माणाधीन और तैयार (रेडी-टू-मूव) दोनों सेगमेंट में सबसे अधिक मूल्य वृद्धि दर्ज की गई है।
रिपोर्ट के अनुसार, इस दौरान चेन्नई में कीमतें 1.5 प्रतिशत बढ़ी है, जबकि हैदराबाद और बेंगलुरू में क्रमश: 1.3 प्रतिशत और 1 प्रतिशत की दर से मूल्य वृद्धि हुई है। इसके अलावा अगर पश्चिम की बात की जाए तो यहां सबसे बड़े बाजार मुंबई में महज 1 प्रतिशत की मूल्य वृद्धि देखी गई है, जबकि ठाणे में 2 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।
(Photo : IANS)
उत्तर भारत में गुरुग्राम और नोएडा के महत्वपूर्ण बाजारों में क्रमश: 0.7 प्रतिशत और 1.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। रिपोर्ट में कहा गया है कि अहमदाबाद और ग्रेटर नोएडा जैसे शहरों में समीक्षाधीन अवधि के दौरान भारत की आवासीय अचल संपत्ति में कोविड से पहले के स्तर की अपेक्षा क्रमश: 7 प्रतिशत और 13 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है और आपूर्ति अखिल भारतीय स्तर पर 8 प्रतिशत बढ़ी है।
मैजिकब्रिक्स प्रोपइंडेक्स यह भी बताता है कि आवासीय अचल संपत्ति बाजार अब महामारी के प्रभाव से निकल रहा है और लोग अब पहले की अपेक्षा घर खरीदने या किराये पर देने के लिए रूचि दिखा रहे हैं। होम लोन की ब्याज दरों में कमी, स्टांप ड्यूटी में कमी और छूट और डेवलपर्स द्वारा दी जाने वाली छूट भी ऐसे कारक हैं, जिससे घर खरीदने वालों में एक आकर्षण पैदा हुआ है। इसने डेवलपर्स को देश भर में नई परियोजनाएं शुरू करने के लिए भी प्रेरित किया है और हैदराबाद ने आपूर्ति में 20 प्रतिशत की महत्वपूर्ण वृद्धि के साथ इस क्षेत्र में नेतृत्व किया है।
मैजिकब्रिक्स के सीईओ सुधीर पई ने एक बयान में कहा, "वर्ष 2021 की पहली तिमाही ने अर्थव्यवस्था में मजबूत पुनरुद्धार का संकेत दिया है। भारतीय अर्थव्यवस्था वित्त वर्ष 2022 में विभिन्न बहुपक्षीय एजेंसियों द्वारा की गई भविष्यवाणियों के अनुसार 10-13 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद है।"

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें