गुजरात : उच्च माध्यमिक शिक्षा में हुआ बड़ा बदलाव, शिक्षा मंत्री ने दी जानकारी

प्रतिकात्मक तस्वीर

कक्षा 9 से 12वीं की परीक्षा पद्धति में हुआ बड़ा बदलाव

गुजरात सरकार छात्रों के हित और उनके भविष्य के लिए लगातार अच्छे फैसले ले रही है। राज्य के शिक्षा मंत्री जीतू वाघन ने छात्रों के लिए एक अहम फैसला लिया है। कक्षा 9वीं से 10वीं और 12वीं में सामान्य वर्ग के छात्रों को ध्यान में रखते हुए यह निर्णय लिया गया कि अब से परीक्षा में20% के बजाय 30%  ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाएंगे। जबकि क्वालिटेटिव प्रश्न जो पहले 80% पूछे जाते थे इस वर्ष से 70% प्रश्न पूछे जाएंगे।
आपको बता दें कि गुजरात में लंबे समय के बाद शैक्षणिक गतिविधियां शुरू हुई हैं।  छात्रों की पढ़ाई पर कोरोना का बहुत बड़ा असर हुआ है। शिक्षा मंत्री जीतू वाघन ने इसकी घोषणा करते हुए कहा कि कक्षा 9, 10 और कक्षा 11 और 12 के सामान्य वर्ग के छात्रों की अभी जैसी स्थिति है,उसके मद्देनजर ये फैसला किया गया है कि हर साल परीक्षा में 20% पूछे जाने वाले वस्तुनिष्ठ प्रश्न के बजाय अब 30% वस्तुनिष्ठ प्रश्न पूछे जाएंगे। वहीं क्वालिटेटिव प्रश्न जो पहले 80% हुआ करते थे, इसके बजाय इस वर्ष से 70% प्रश्न पूछे जाएंगे। उन्होंने आगे बताया कि हर छात्र अच्छे से परीक्षा दे सके, इसके लिए एक अहम फैसला लिया गया है। 21 लाख 75 हजार छात्र आसानी से दे सकते हैं। प्रतियोगिता परीक्षा आयोजित करने का निर्णय लिया गया है। इस बदली हुई शिक्षण पद्धति से छात्रों और अभिभावकों का तनाव भी कम किया जा सकता है।
गौरतलब है कि शिक्षा मंत्री ने जनरल का कार्यकाल बढ़ाने के दिशा में काम करने की बात कही। उन्हों एक कि जल्द ही ऐसी व्यवस्था होगी जो प्रतियोगी परीक्षाओं में उपयोगी हो सकती है। इसका लाभ गुजरात के 29 लाख छात्रों को मिलेगा। इंटरनल ऑप्शन में और भी सवाल पूछे जाएंगे। यह तरीका एक साल के लिए लागू किया जाएगा। छात्रों पर बोझ कम करने के लिए यह एक बड़ा प्रयास है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें