गुजरात:राज्य में मेघराज की धमाकेदार एंट्री, किसानों को राहत

निचले इलाकों में पानी भर गया।

बनासकांठा, अम्बाजी, अमरेली, नवसारी समेत कई राज्यों में हुई जमकर बारिश

सूखे की कगार पर पहुंच चुके गुजरात में पिछले 24 घंटों में व्यापक बारिश हुई है। बनासकांठा जिले में कल हुई भारी बारिश के बाद देर शाम बारिश शुरू हो गई। डिसा में 2 इंच और वडगाम में 3 इंच बारिश हुई, लेकिन बारिश का सबसे मजेदार नजारा यात्राधाम अंबाजी में देखने को मिला। यहां भारी बारिश से सड़क पर खड़े वाहन तैरने लगे। लोग बारिश के पानी में अपने वाहनों को बाढ़ के पानी से बचाने के लिए भागते नजर आए। वहीं सौराष्ट्र के अमरेली, राजकोट और जूनागढ़ जिलों में भी भारी बारिश हुई। अमरेली के कुंकवाव में एक घंटे में 2 इंच बारिश हुई, वहीं नवसारी समेत दक्षिण गुजरात के इलाकों में भी छिटपुट बारिश हुई, लेकिन काफी बारिश हुई। पिछले 24 घंटों के दौरान, वलसाड जिले के उमरगाम तालुका में 399 मिमी या 16 इंच, वापी में 200 मिमी या आठ इंच और मंगरोल में 129 मिमी या पांच इंच बारिश हुई।
आपको बता दें कि बनासकांठा जिले में इस समय बारिश का मौसम बना हुआ है। 28 दिनों के बाद जिले में सर्वत्र वर्षा की शुरुआत के साथ ही किसानों की मुरझाई हुई फसल फिर से जीवित हो गई है। हालांकि, दिन भर हुई भारी बारिश के बाद कल शाम को बारिश शुरू हो गई।  यात्राधाम अंबाजी में भारी बारिश के चलते अंबाजी रोड पर दुकानों के सामने खड़े वाहन बारिश के पानी में तैरने लगे।
बनासकांठा जिले में अचानक से मौसम में आए बदलाव से तीन दिनों तक बारिश शुरू हो गई थी, जिससे किसानों की मुरझाई फसल फिर से उड़ने लगी है। बीते 24 घंटे में हुई बारिश बनासकांठा जिले के अमीरगढ़ में 01 मिमी, कंकराज में 18 मिमी, दिसंबर में 44 मिमी, थरद में 07 मिमी, दंता में 21 मिमी, दंतीवाड़ा में 17 मिमी, डायोडार में 03 मिमी, धनेरा में 15 मिमी, पालनपुर में 19 मिमी, लखभर में 19 मिमी, भभानी में 33 मिमी, वडगाम में 31 मिमी, 76 मिमी, वाव में 02 मिमी, सुइगाम में 21 मिमी बरसात हुई। जबकि जिले में इस साल औसतन 31.62 फीसदी बारिश हुई है।
वहीं अमरेली की बात करें तो कुंकवाव जिले में दो इंच बारिश हुई, जबकि अमरेली में भी डेढ़ इंच, राजुला, वाडिया, चलाला और बगसरा में आधा इंच बारिश हुई। नवसारी को लेकर मौसम विभाग के पूर्वानुमान पिछले कुछ समय से गलत साबित हो रहे थे हैं ऐसे में अच्छी बारिश ने केलिया और जूज बांधों को साल भर पर्याप्त पानी दिया है।  आपको बता दें कि नवसारी जिले में खासतौर पर धान और गन्ने की फसल बड़ी मात्रा में उगाई जाती है, जिसका मतलब है कि आज की मूसलाधार बारिश राहत लेकर आई है। धान और गन्ना ऐसी फसलें हैं जिन्हें अधिक पानी की आवश्यकता होती है, जिससे किसान असमंजस में थे, लेकिन उम्मीद की किरण लेकर आई बारिश ने उन्हें आश्वस्त किया है, साथ ही वातावरण में असहनीय बुदबुदाहट के कारण वायरल बुखार के मामले भी सामने आए हैं।  मौसम सर्द होने के कारण जिले के लोगों में अफरा-तफरी का माहौल है। जूनागढ़ जिले में लगभग औसतन आधा इंच वर्षा हुई है।  इस बीच मंगलवार को दिन भर बादल छाए रहने के बीच मेघराजा ने बारिश शुरू कर दी जिसमें केशोद में 18 मिमी, जूनागढ़ शहर और ग्रामीण में 12 मिमी, भेंसाना में 8 मिमी, मेंद्रदा में 6 मिमी, मांगरोल में 2 मिमी, मनावदार में 6 मिमी, मालिया हटिना में 4 मिमी, वनथली में 10 मिमी और विसावदर में रात 8 बजे तक 9 मिमी बारिश हुई।
आपको बता दें कि राज्य आपातकालीन संचालन केंद्र द्वारा प्राप्त रिपोर्टों के अनुसार आज, 1 सितंबर, 2021, सुबह 6 बजे तक, विसावदर तालुका में 96 मिमी, वाघई में 90 मिमी, दडियापाड़ा में 88 मिमी, ध्रोल में 86 मिमी, 83 कथलाल में मिमी, मेंड्राडा में 81 मिमी, कपराडा, वडगाम में 79 मिमी। नडियाद में 76 मिमी और बगसरा में 75 मिमी। कुल 10 तालुकों में तीन इंच से अधिक बारिश हुई। इसके अलावा नन्दोद चौरयासी, मनसा, मटर, पारडी, घोघा, केशोद, उमरेठ, वंसदा, वनथली, गरुड़ेश्वर, मंगरोल, खेरगाम, बोटाद, जूनागढ़ शहर, सावरकुंडला, खेड़ा में 17 तालुकों में दो इंच से अधिक बारिश हुई। वहीं गिर-सोमनाथ जिले के तलाला तालुका में 145 मिमी या छह इंच, जूनागढ़ जिले के मालिया तालुका में 132 मिमी या पांच इंच से अधिक और मंगरोल तालुका में 100 मिमी।  करीब चार इंच बारिश हुई है।
उल्लेखनीय है कि वर्तमान साल की कुल औसत वर्षा 45.85 प्रतिशत है, जिसमें से कच्छ क्षेत्र में 32.96 प्रतिशत, उत्तरी गुजरात में 36.15 प्रतिशत, पूर्व-मध्य गुजरात में 42.48 प्रतिशत, सौराष्ट्र में 40.67 प्रतिशत और दक्षिण गुजरात में 55.47 प्रतिशत वर्षा हुई है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें