गुजरात : गिरनार लिली परिक्रमा की तरह अंबाजी गब्बर में भी 51 शक्तिपीठ परिक्रमा की योजना : कलेक्टर आनंद पटेल

लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर 31 अक्टूबर को अंबाजी के विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल पर त्रिवेणी संगम का निर्माण किया गया

लौह पुरुष सरदार की जयंती के अवसर पर आजादी का अमृत महोत्सव के तहत रन फॉर यूनिटी कार्यक्रम का आयोजन किया गया

  देश की आजादी के 75 साल पूरे होने के मौके पर पूरे देश में आजादी का अमृत महोत्सव का भव्य आयोजन किया जा रहा है। लौह पुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के अवसर पर 31 अक्टूबर को अंबाजी के विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल पर त्रिवेणी संगम का निर्माण किया गया। प्रधान मंत्री नरेंद्र भाई मोदी की प्रेरणा और मार्गदर्शन से अंबाजी गब्बर  तलेटी में निर्माणाधीन 51 शक्तिपीठ परक्रिमा मार्ग पर श्री आरासुरी अंबाजी माता देवस्थान ट्रस्ट संचालित  अंबाजी कला, वाणिज्य और बी.सी.ए. कालेज के 75 छात्र एकता की दौड़ में शामिल हुए। रन फॉर यूनिटी की शुरुआत अंबाजी देवस्थान ट्रस्ट के प्रशासक  एसजे चावड़ा और कॉलेज के प्राचार्यों ने की। जिसमें एक से तीन नंबर पाने वाले धावकों को  31,000/- रु. 11000/- और रु. 2100/- का इनामी चेक दिया गया।
  इस अवसर पर अरासुरी अम्बाजी माता देवस्थान ट्रस्ट के अध्यक्ष एवं बनासकांठा कलेक्टर  आनंद पटेल ने रन फॉर यूनिटी में भाग ले रहे कॉलेज के युवाओं को संबोधित करते हुए कहा, मैं स्वतंत्रता के 75 वें वर्ष के उपलक्ष्य में आजादी का अमृत महोत्सव का आयोजन कर रहे है। मैं स्वतंत्रता आंदोलन में भाग लेने वाले नामी-अनामी शहीद वीरों को वंदन कर श्रद्धांजली अर्पण  करता हूं।  उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता  के बाद जब भारत को आजादी मिली तो पूरा देश अलग-अलग राज्यों में बंटा हुआ था, उसे एक भारत बनाने का काम गुजरात के पनोता पुत्र लौह पुरुष सरदार पटेल ने किया था।  इसी तरह देश ए विदेश में स्थित माताजी के 51 शक्तिपीठों के निर्माण का काम भी हमारे प्रधानमंत्री  नरेंद्र भाई मोदी ने अंबाजी गब्बर में कराया था। देश-विदेश में  श्रीलंका, बांग्लादेश, नेपाल सहित अन्य देशों में माताजी के शक्तिपीठों के अनुसार अंबाजी में 51 शक्तिपीठों का निर्माण अंबाजी में किया गया। एक ही जन्म में देश-विदेश में स्थित इन शक्तिपीठों में जाकर माताजी का दर्शन करना हर मानव के लिए संभव नहीं था, जिससे मूल स्थानक जैसी ही 51 शक्तिपीठों का अंबाजी गब्बर में निर्माण किया गया है।  कलेक्टर ने एक महत्वपूर्ण घोषणा करते हुए कहा कि अंबाजी मंदिर ट्रस्ट जूनागढ़ गिरनार लिली परिक्रमा की तरह अंबाजी गब्बर में 51 शक्ति पीठ परिक्रमा आयोजित करने की योजना बना रहा है। इससे अंबाजी दर्शन में आने वाले  करोड़ों भक्त एक ही जन्म में 51 शक्तिपीठों का लाभ उठा सकेंगे। उन्होंने एकता दोड़ में शामिल हुए युवाओं को दीपावली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि क्षेत्र के युवा सेना में शामिल होकर देश की सेवा करने के लिए पर्याप्त रूप से फिट हैं। उन्होंने कहा कि समय-समय पर उनके लिए इस तरह की प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाना चाहिए। उन्होंने वरिष्ठ नागरिकों के लिए एक प्रतियोगिता आयोजित करने को भी कहा।
         इस अवसर पर अंबाजी देवस्थान ट्रस्ट के प्रशासक  एसजे चावड़ा ने कहा कि आज पहली बार सरदार साहब की जयंती के अवसर पर 51 शक्ति पीठ परिक्रमा मार्ग पर एकता दोड़ का आयोजन किया गया है। उन्होंने कहा कि पूज्य सरदार साहब ने देश के विभिन्न राज्यों को मिलाकर एक भारत का निर्माण किया है। आज प्रधानमंत्री  नरेन्द्र भाई मोदी के नेतृत्व में एक बेहतर भारत का निर्माण हो रहा है। उन्होंने रन फॉर यूनिटी में शामिल होने वाले युवाओं को बधाई और शुभकामनाएं भेजीं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें