गुजरातः कोरोना काल में जीवनोपयोगी सामग्रियों से लेकर नकद राशि की मदद करने वाले नगरसेवक के बारे में जानें

दाहोद के नगरसेवक लखनभाई को वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स लंदन ने सम्मानित किया

दाहोद के नगरसेवक ने मुख्यमंत्री विजयभाई रूपाणी के मेरा वार्ड, कोरोनामुक्त वार्ड अभियान का लखनभाई राजगोर ने पूर्णतः पालन किया

वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स लंदन ने भी लखनभाई के काम को सर्टिफिकेट ऑफ कमिटमेंट के साथ सम्मानित किया
ऐसा नहीं है कि आप रात में कभी भी कॉल करें और सामने से पहली रिंग में फोन न  उठाये हों! रात में कोई परेशानी हो, अस्पताल का काम हो, किसी के मरने पर सहायक व्यवस्था हो, घर में चोर घुस आए या सीएम अमृतम कार्ड बनवाना पड़े तो इतना नहीं! जो भी काम हो, इस पार्षद को बुलाओ और वह तुरंत वहां पहुंच जाएगा! आप का काम भी  सरलता से कर दें। यह कहानी दाहोद नगर पालिका के वार्ड नंबर 1 के पार्षद  लखनभाई राजगोर की है। इस नगरसेवक ने मुख्यमंत्री  विजयभाई रूपाणी के 'मेरा वार्ड, कोरोनामुक्ता वार्ड अभियान' को अच्छी तरह से पूरा किया। 
लखनभाई को उनके वार्ड में कोविड टीकाकरण सहित की कार्यवाही की वर्ल्ड बुक ऑफ रिकॉर्ड्स, लंदन ने भी दर्ज की है और उन्हें प्रतिबद्धता प्रमाण पत्र से सम्मानित किया है। लखनभाई ने अपने क्षेत्र में लगभग 9 अलग-अलग टीकाकरण शिविर आयोजित किए थे और लोगों को घर-घर जाकर टीकाकरण कराने के लिए राजी किया था। उनके विभिन्न जागरूकता कार्यक्रमों और टीकाकरण शिविरों के कारण यहाँ के लगभग 70 प्रतिशत लोगों का टीकाकरण किया जा चुका है। गोदी रोड क्षेत्र में 18 वर्ष से अधिक उम्र के 20843 लोगों में से 15487 का टीकाकरण किया जा चुका है।
आइए लखनभाई के काम के बारे में प्रकाश डालें। उनकी सेवा यात्रा ढाई दशक पहले शुरू हुई थी। लखनभाई के पिता एक सामान्य आर्थिक और पारिवारिक पृष्ठभूमि वाले किसान और पशुपालक थे। आर्थिक तंगी के कारण  केवल कक्षा 11 तक ही पढ़ाई कर पाए लखनभाई ने मात्र डेढ़ महीने में सिलाई सीख ली और एक दुकान शुरू कर दी। उनकी दुकान दाहोद नगर पालिका के तत्कालीन अध्यक्ष  महेशभाई देसाई की सीट थी। वहीं से सेवा का काम शुरू हुआ। वह वर्तमान में नगर पालिका के कार्यकारी अध्यक्ष हैं।
मृत्यु रजिस्टर वे ही स्वयं करा कर देते हैं। दुखद घटना वाले घर में बैठक या इससे संबंधित प्रसंग के लिए सफाई सहित की व्यवस्था करा देते हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्रभाई मोदी की आवास योजना से 18 परिवारों को लाभ मिला है। इन परिवारों के लिए घर का घर के सपने को साकार करने में उनका महत्वपूर्ण योगदान था। उज्ज्वला योजना से कई गरीब परिवार भी लाभान्वित हुए हैं।
दाहोद कस्बे के अंडर ब्रिज में बारिश का पानी भरने की समस्या के समाधान के लिए सांसद जसवंत सिंह भाभोर के अनुदान से बड़ी क्षमता वाला एक बड़ा पंप लगाया गया है। डाक रोड पर पानी भरने वाले स्थलों व दिवालों को एक समान करा दिया।  अब वार्ड नंबर एक में बारिश के पानी के निस्तारण और भूमिगत सीवरेज का काम 90 फीसदी पूरा हो चुका है। डॉक रोड की ओर रेलवे टिकट खिड़की और फुट ओवर ब्रिज शुरू करने का उनका प्रयास सफल रहा है।
कोरोना काल में  लॉकडाउन के दौरान उनकी सेवा और धर्मार्थ कार्य उल्लेखनीय रहा है। लॉकडाउन के दौरान लोक सेवा के लिए उन्होंने 8.5 लाख रुपये अपना खर्च किया है। 1162 परिवारों को राशन किट बांटे गए। कई परिवार ऐसे थे जिनमें से कोई प्राइवेट नौकरी कर रहा था और लॉकडाउन में आमदनी बंद हो गई और लोन का किस्त जारी है। ऐसे परिवार किसी के सामने हाथ न फैलाये उसके लिए उन्हें लखनभाई  आर्थिक मदद की है। उन्होंने डॉक रोड पर तीन महीने तक कोरोना से बचने के लिए सार्वजनिक सेनेटाइजेशन चलाया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें